Skip to main content

Posts

Showing posts with the label vasundhra raje

केवल1 वोट से बने विधायक कल्याण सिंह का निधन....

जयपुर।  भाजपा के दिग्गज नेता कल्याण सिंह बुधवार लंबी बीमारी के चलते दुनिया से रुख़सत हो गए। जानकारी के अनुसार चौहान लंबे समस से कैंसर से झूझ रहे थे। जिसके चलते रात 2 बजे उनकी तबीयत बिगड़ गई। और रात 2 बजे उन्होने अंतिम सांस ली। कल्याण सिंह चौहान का पिछले कुछ दिनों से उदयपुर के एक निजी हॉस्पिटल में उपचार चल रहा था। जानकारी के अनुसार मूल गांव डगवाड़ा में अंतिम संस्कार किया जाएगा। आपको बता दें कि 2008 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने कांग्रेस के सीएम पद के प्रत्याशी सीपी जोशी को एक वोट से हराकर उन्हे मुख्यमंत्री पद की दावेदारी से दूर कर दिया था। 199 के आंकड़े पर में फिर विधानसभा आपको बता दें कि राजस्थान विधानसभा एक बार फिर 199 के फेर में आ गई है। इससे पहले मांडलगढ़ विधायक कीर्ति कुमारी के निधन के बाद हाल ही में हुए उपचुनाव में विवेक धाकड ने हाल में शपथ ली थी। इससे पहले धौलपुर विधायक कोर्ट द्वारा सजा सुनाए जाने के बाद खाली हुई सीट के बाद 199 के फेर में विधानसभा पर हा गई थी। Source : Google 

इस BJP नेता से अमीर है उसकी वाइफ, जानिए किसके पास कितनी संपत्ति

जयपुर। राजस्थान में उपचुनावों के नामांकन के साथ सियासी पार चढ़ने लगा है। इसी बीच अलवर से पर्चा भरने पहुंचे बीजेपी के उम्मीदवार जसवंत सिंह यादव। यहां उनके द्वारा जमा कराए गए एफीडेविट में उनकी संपत्ति करीब 4 करोड़ है। वहीं उनकी पत्नी की संपत्ति करीब 5 करोड़ रुपए है। बता दें कि जसवंत एक डॉक्टर है। जानें जसवंत सिंह यादव के बारे में... जसवंत सिंह यादव के पास करीब 44,000 रुपए नकद मौजूद हैं। वहीं वे तीस लाख की एक फॉरच्यूनर गाड़ी भी रखते हैं। इसके साथ करीब 3 लाख के गहने भी उनके पासे हैं। जमीन: कृषिभूमि कोटकासिम में 1.50 करोड़ की। 30 लाख का भिवाड़ी में वाणिज्यिक भवन और एक करोड़ के फ्लैट मकान। अगर उनकी कुल संपत्ति की बात करें तो वो करीब 4,35,94,651 रुपए हैं। वहीं जसवंत की पत्नी किरन यादव के पास कुल 5.39 करोड़ की संपत्ति है। आयुर्वेद में ली है डॉक्टर की डिग्री बता दें कि जसवंत सिंह का जन्म 5 अगस्त 1953 में अलवर के पास कोटकासिम के शिलपता में हुआ था। उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से आयुर्वेदिक आयुर्विज्ञान की डिग्री ली है। वे राजस्थान सरकार में लेबर इम्प्लायमेंट डिपार्टमेंट से लेकर आईटीआई मिनिस्टर तक

दलितों को अछूत रखने की साजिश , भाजपा प्रदेश कार्यलय में-

वोट बैंक और राजनीती..............मायने कुछ ख़ास   - जयपुर | राजस्थान में पूर्ण बहुमत से भाजपा की सरकार है लेकिन जयपुर स्थित भाजपा प्रदेश कार्यलय में कुछ ख़ास नजारा देखने को मिलता है | देश के प्रधानमंत्री मोदी जी सबका साथ -सबका विकास की बात करते है तो मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे 36 की 36 कोमों के विकास और साथ की बात करती है | लेकिन जयपुर प्रदेश कार्यलय में स्थित अनुसूचित जाति ,अनुसूचित जन -जाति और ओ बी सी वर्ग के प्रदेशाध्यक्ष को जो बैठने का स्थान दे रखा है वो कुछ विचलित करता है उसका कारण है प्रदेशाध्यक्ष जहाँ बैठते है उन कमरों में छत भी नहीं है मात्र टीन शेट्स ( चदर ) लगी हुई  है उनमे बैठने वाले लोग भी ख़ास है जैस अनुसूचित जाति के प्रदेशाध्यक्ष प्रो (डॉ ) ओ पी मेहन्द्रा जी जो पूर्व विधायक रहे चुके हैऔर मुख्यमंत्री राजे के करीबी माने जाते है  कई महत्पूर्ण पदों की जिमेदारी निभा चुके है |   फिर भी उनके कार्य लय की यह स्थिति कुछ समझ से परे है र यही हाल अनुसूचित जन -जाति मोर्चा व् ओ बी सी के प्रदेशाध्यक्ष का है |अब यह देखना बड़ा दिलचस्प है आखिर उपरोक्त कार्यलय की स्थिति ऐसी क्यों है इ सके पीछे क्य

प्रधानमंत्री मोदी 16 जनवरी को करेगे रिफाइनरी शुभारम्भ -

राजस्थान का भविष्य संवारेगी रिफाइनरी - मुख्यमंत्री राजे जयपुर। मुख्यमंत्री राजे ने आज  बाड़मेर के पचपदरा में लगने वाली रिफाइनरी को राजस्थान का सबसे बड़ा निवेश बताया  है, मुख्यमंत्री राजे ने कहा की रिफाइनरी से प्रदेश का भविष्य सवरने जा रहा है। यह योजना करीब 43 हजार करोड़ रुपये की  है  जिसका  शुभारम्भ प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी 16 जनवरी को पचपदरा में करेंगे।  मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने प्रदेश के हित में लगने वाली इस रिफाइनरी के फायदे जन-जन तक पहुंचाने के लिए मंगलवार को मुख्यमंत्री निवास से झंड़ी दिखाकर जागरूकता रथ रवाना किये। इस प्रकार के 30 रथ अगले 15 दिनों तक प्रदेश के 29 जिलों की गांव-ढाणियों में जाकर फिल्मों एवं नुक्कड़ नाटकों के माध्यम से बाड़मेर रिफाइनरी एवं पेट्रोकेमिकल परियोजना और इससे होने वाले फायदों की जानकारी आमजन तक पहुंचाएंगे। गौरतलब है कि राज्य सरकार ने एचपीसीएल के साथ पूर्व में हुए एमओयू की समीक्षा करते हुए राजस्थान और प्रदेश के लोगों के हित में पुनः एमओयू किया था। इस नये एमओयू से प्रदेश पर पड़ने वाले आर्थिक भार में उल्लेखनीय कमी आई है। इस अवसर पर विधायक श्री अशो