Skip to main content

Posts

Showing posts with the label pawan dev

सफाई कर्मचारियों की सुरक्षा मानवता की सुरक्षा है – डिक्की अध्यक्ष डॉ. सत्य प्रकाश वर्मा

COVID-19  राजस्थान - सफाई कर्मचारियों की सुरक्षा के लियें राजस्थान सरकार के साथ  DICCI की नई पहल - जयपुर | COVID-19 वैश्विक महामारी भारत सहित पूरे विश्व के लिए चिंता का विषय बना हुआ है. इस वैश्विक महामरी में कार्यरत वाल्मीकि समाज व् सफाई कर्मचारी दिन – रात ” कोरोना योद्धा ” के रूप में देश सेवा कार्यरत है. काम सीवर की सफाई का हो या कोरोना मरीजों से भरे अस्पतालों की, वाल्मीकि समाज एवं सफाई कर्मियों की उपयोगिता सबसे अधिक होती है किन्तु सुरक्षा उपकरण प्रदान करने की दृष्टि से प्राथमिकता सबसे कम. ऐसे में, दलित इंडियन चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (डिक्की) ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सफाई कर्मचारियों की सुरक्षा को प्राथमिकता देते हुए राज्यभर में पीपीई किट, मास्क और ग्लव्स एवं राज्य सरकार को स्थानीय जिला प्रशासन के माध्यम से भेंट करने की पहल की है | इस राज्यव्यापी अभियान की शुरूवात जयपुर से डिक्की के अध्यक्ष डॉ. सत्य प्रकाश वर्मा द्वारा जयपुर जिला कलेक्टर श्री जोगाराम को 5000 मास्क्स और 500 ग्लव्स भेंट करते हुए की गई. उनकी पहल पर इसी श्रंखला में डिक्की के उदयपुर समन्वयक भारत बंशीवा

MSME Minister Interacts with DICCI and assures complete support to SC-ST entrepreneurs amidst COVID19 pandemic

Hon’ble Minister for MSME  Nitin Gadkari, addressed an exclusive online meeting organised by Dalit Indian Chamber of Commerce and Industry (DICCI) on ‘Impact of COVID19 Pandemic on SC-ST MSMEs & Way Forward for Revival’. The meeting was presided by Founder-Chairman of DICCI, Dr. Milind Kamble and moderated by National Working President of DICCI, Shri. Ravi Kumar Narra, in which 350+ SC-ST Entrepreneurs, Industry experts and MSME officials participated. Hon’ble Minister discussed the various aspects of measures being taken by Govt. of India to meet the challenges of COVID19 with the panellists comprising of all regional heads of DICCI representing all Indian states and across business sectors. The meeting was also attended by international DICCI members from Japan and UK. The highlights of the discussions for which the Hon’ble Minister has assured his immediate consideration are, The Govt. will consider DICCI’s proposal of including services sector into the ambit of Special Capi

राजस्थान सरकार अभिभावकों की आर्थिक स्थिति को समझे और प्राइवेट स्कूलों की 3 माह की फ़ीस माफ़ करें - पवन देव

Fanaticism regarding the fees of private schools wrong - Pawan Dev जयपुर | प्राइवेट स्कूलों की फ़ीस को लेकर अभिभावक व् स्कूल प्रशासन में खीचतान चल रही है जिसका कोई सकारात्मक परिणाम नहीं निकल पाया है इस को लेकर सोशल एक्टिविस्ट व् जर्नलिस्ट पवन देव ने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को लेटर लिखकर - इस वैश्विक महामारी कोविड -19 व् लॉक डाउन के चलते अभिभावकों की जो आर्थिक स्थिति ख़राब हुई है जिसके चलते उनका घर चलाना भी मुश्किल हो गया है की और ध्यान दिलाते हुयें कहा है की  गैर सरकारी स्कूलों  द्वारा इस लॉक डाउन के समय जो फ़ीस वसूली की जा रही है उस पर तुरंत प्रभाव  से रोक लगाई जायें व्  3 माह की स्कूल की फ़ीस माफ़ की जायें |    मोहदय गौरतलब है की देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने देश में 22 मार्च को मध्य रात्रि को लॉक डाउन करने का आदेश जारी करा था जिसके साथ ही राजस्थान सरकार ने भी राजस्थान में लॉक डाउन को सख्ती से लागू किया जिसके चलते रा [caption id="attachment_9075" align="alignright" width="297"] PAWAN DEV - JAIPUR [/caption] जस्थान में सकारात्मक परिणाम न

शिक्षा व् मानवीय मूल्यों की बड़ी बाते करने वाले प्राइवेट स्कूल - अब इस महामारी काल में भी शिक्षा का व्यवसायीकरण कर रहें है

Private schools that talk a lot about education and human values ​​-now even in this pandemic period, education is being commercialized - जयपुर |  शिक्षा व मानवता का पाठ पढ़ाने वाले स्कूल आज कल इस  वैश्विक महामारी कोरोना में भी पेरेंट्स को छुट्टियों की फीस जमा कराने के लियें दबाव् बना रहे हैं | इस मुश्किल घड़ी में जहां लॉक डाउन के चलते पिछले 40 दिन से अधिक समय से व्यवसाय बंद हैं घर चलाने का भी खर्च अब मध्यमवर्गीय परिवार के पास नहीं बचा हैं अब स्कूलों के मेल ,कॉल आदि द्वारा पेरेंट्स पर दबाव बनाया जा रहा हैं कि आप अपने बच्चों की फ़ीस जमा किरायें| [caption id="attachment_10852" align="alignnone" width="920"] sa aabhar[/caption] अब मध्यम वर्गीय परिवार मानसिक रूप से तनाव में है एक और तो काम धंधे ठप हैं उसके ऊपर प्रधानमंत्री मोदी व राज्य सरकारों ने आदेश जारी कर के कह दिया हैं कि लॉक डाउन के चलते आप अपने यहां काम करने वाले मजदूरों को नोकरी से नहीं निकाल सकते और उन्हें लॉक डाउन के चलते सैलेरी भी देना अनिवार्य हैं | अब मध्यम वर्गीय परिवार अपना घर चलायें या जरूरतमंद ल

कोरो इंडिया ने 1200 से अधिक परिवार के लियें मदद के हाथ बढ़ायें -

COVID -19  Social workers associated with coro India extended their helping hand to more than 1200 families - dry ration of more than 10 lakh rupees and other essential goods जयपुर | वैश्विक महामारी कोविड -19 { कोरोना } ने गरीब परिवारों को मौत से कम कष्ट नहीं दिया  है देश में एकाएक लगे लॉक डाउन ने या बोले कर्फ़्यू ने ग़रीब , दहाड़ी मजदुर ,प्रवासी मजदूरो को संभलने का मौका तक नहीं दिया | गौरतलब है की दहाड़ी मजदुर ,प्रवासी मजदुर और ग़रीब परिवार दहाड़ी के हिसाब से मजदूरी करते है जिसमे बे मुश्किल से उनका गुजरा चल पाता है और लॉक डाउन के बाद अब घर बैठना और घर का खर्चा चलाना मुश्किल हो रहा है  घर में सुखा राशन ख़त्म हो चूका है  , आर्थिक व्यवस्था जो भी थी वह भी अब 30 दिन से अधिक समय बाद चरमा गई है  | इस संकटकाल में सामाजिक संगठन व् भामाशाह लोगो ने मोर्चा संभाला  जिससे गरीब व् जरूरत परिवार को थोडा सहारा मिला है |   कोरो इंडिया सामाजिक संगठन के प्रयासों से राजस्थान में अभी तक 7 जिलो ,17 ब्लोक ,70 गाँवों के 1158 परिवारों को 1 माह तक का सुखा राशन निशुल्क उपलब्ध कराया जा चूका है साथ ही कोरो इंडिया के जुड़े

आपका ज़मीर आख़िर जिन्दा क्यों है - 21 वीं सदीं में इंसान मलमूत्र में अपना मुहँ दे रहा है

Why is your conscience alive - in the 21st century man is giving his mouth in excreta राजस्थान . जयपुर | भारत देश आज परमाणु सम्पन्न है और विश्व पटल पर अपनी एक साख रखता है लेकिन जमीनी स्तर पर आज भी कुछ ऐसे अमानवीय द्रश्य हमारी आखों के सामने आ जाते है की हम अपने आप से ही कई सवाल कर बैठते थे आख़िर ऐसा क्यों - आज़ादी के 70 साल से अधिक समय बीत जाने के बाद भी हमारे समाज के कर्णधार समाज " वाल्मीकि " जिन्हें अलग - अलग राज्यों में अलग -अलग नाम से जानते है जैसे राजस्थान में में वाल्मीकि .भंगी .मेहतर .झडमाली . हलालखोर . चुह्दा ,राउत ,हेमा . डोम .डोमर .हाड़ी ,लालबेग आदी तमाम नाम लेकिन इनका काम सिर्फ - सफाई करना है चाहे रोड पर हो या गटर - सीवरेज | आज़ादी के बाद इस वंचित समाज को क्या मिला - भारत देश 15 अगस्त 1947 में आज़ाद हो गया देश की सत्ता अब देश के नेताओं के पास आ गई देश के पहले प्रधानमंत्री बनने का गौरव पंडित जवाहर लाल नेहरु को मिला ,उनका पहला देश को संबोधित करने वाला भाषाण एक विजनरी था जिसकी चर्चा आज भी होती है | देश में लोकतांत्रिक व्यवस्था बनी और 26 जनवरी 1950 को डॉ बाबा साहब अम्बेडकर क

जयपुर में उठा - बाल मजदूरों के संरक्षण का मुद्दा - मुख्यमंत्री को दिया गया ज्ञापन - प्रशासन सख्त

Flames come to rescue child and fraternity workers - Child Watch Group [caption id="attachment_10780" align="alignright" width="107"] basant hariyana[/caption] जयपुर | जयपुर शहर वर्तमान में कोरोना वायरस " कोविड -19 का केंद बना हुआ है जयपुर में लगभग 20 हजार से अधिक बाल मजदुर चूड़ी , साडी काट -चौक ,हस्तकला  अन्य कार्यो में जुड़े है  जिनमे प्रमुख शास्त्री नगर - भट्टा बस्ती, संजय नगर, बिहारी टीला, इमाम चौक, गुजरात चौक, भांडा बस्ती, चांदपोल ब्रह्मपुरी, तोपखाने का रास्ता शारदा कॉलोनी, निंदार राव जी का रास्ता , रामगंज गलता गेट, बाबू का टिबा, दखोतन कॉलोनी | अब जब शहर में  कर्फ्यू लगा है उससे पहले लॉक डाउन था तो गरीब - तबके के लोग परेशान है उनके पास भोजन की गंभीर समस्या भी उत्पन्न हो गई है तो एक बंद कमरे में 10-20 लोग एकत्रित काम करने वाले बाल मजदुर कहाँ है केसे है कही कोई कोरोना के सक्रमण तो नहीं यह बड़ा सवाल है जिसको लेकर बाल एवं बंधुओं मजदुर को लेकर काम कर रहें संगठन - चाइल्ड वाच ग्रुप आगें आया हैं और संस्था के जयपुर प्रभारी बसंत हरियाणा ने मुख्यमंत्री अशोक ग

सरदार पटेल की 144 वीं जयंती आज - देशभर में " रन फॉर यूनिटी "

लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती - रन फॉर यूनिटी राष्ट्र आज पटेल की जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित कर रहा है, राष्ट्रीय एकता दिवस पर देशभर में अनेक कार्यक्रम - दिल्ली। देशभर में आज लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर मनाई जा रही है। 144वीं जयंती के मौके पर आज देशभर में " रन फॉर यूनिटी " कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यक्रम के तहत पूरे भारत में हजारों लोग सड़कों पर उतरेंगे और दौड़ में हिस्सा ले रहे हैं। देशभर की सभी सरकारी स्कूलों में विशेष कार्यक्रम रखा गया है। आपको बता दें कि आज के दिन को देश राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की [caption id="attachment_10110" align="alignright" width="353"] सरदार पटेल[/caption] अगुवाई में लौह पुरू ष की जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की। सरदार पटेल का जन्‍मदिन राष्‍ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है। राष्‍ट्रीय एकता दिवस को भव्‍य रूप में मनाया जा रहा हैं। देशभर में लाखों लोगों ने इस दिवस पर मनाये जाने वाले विभिन्‍न कार्यक्रमों में भाग लिया है। बता दें कि प

गांधी 150 वर्ष के अवसर पर नशा छोड़ने को लेकर युवाओ से एक लाख संकल्प पत्र भराए जाएंगे -

Rajasthan agitation over liquor demand agitation गांधी 150 वर्ष के अवसर पर नशा छोड़ने को लेकर युवाओ से एक लाख संकल्प पत्र भराए जाएंगे -   जयपुर 5 अक्टूबर 2019 जयपुर। आज ग्राम झिराना, नीमकाथाना, जिला सीकर में झिराना ग्राम पंचायत सहित ग्राम जोडली, बॉसडी, हरजनपुरा,महावा, मंडोली,पृथ्वपुरी सहित अनेक गांव की महिलाओं, युवाओ व विधार्थियो ने ग्राम झिराना को शराब मुक्त कराने के लिए रैली व जनसभा का आयोजन किया गया |  इस अवसर पर युवाओ ने नशा छोड़ने हेतु संकल्प पत्र भी भरे। राजस्थान नागरिक मंच के महासचिव बसन्त हरियाणा ने विज्ञप्ति जारी कर बताया कि ग्राम झिराना, नीमकाथाना में आज युवा नेता गिगराज वर्मा के नेतृत्व में ग्राम झिराना को पूर्ण रूप से शराब मुक्त कराने हेतु रैली निकाली गई जिसमें बड़ी संख्या में महिलाएं, युवा व विद्यार्थी शामिल थे। रैली में शामिल सभी लोग " शराब का व्यापार बन्द करे सरकार, शराब का धंधा सब से गन्दा, सिगरेट, बीड़ी,शराब और तम्बक यह है तन, मन के डाकू" जैसे नारे लगा रहे थे। रैली के बाद श्रीमती सुनीता की अध्यक्षता में एक जनसभा का आयोजन किया गया जिसमें उपस्थित सभी वक्ताओं ने गां

राजस्थान - भाजपा कर सकती है वापसी - जाने ख़ास रिपोर्ट

तीसरा मोर्चा गठबंधन के बंदर बाट में लगभग तय है - भाजपा की वापसी  जयपुर | राजस्थान विधानसभा चुनावों में अभी एक महीने का वक्त है लेकिन आज https://politico24x7.com की टीम ने   जमीन स्तर और आकड़े जांचे तो चौकाने वाले तथ्य सामने आ रहे है ,जिसके आधार पर भाजपा राजस्थान में वापसी कर सकती है आसानी से - जानें तीसरा गटबंधन मात्र - बातो और मीटिंगों ने - राज्य में भाजपा और कांग्रेस को हराने के लिए ऐसे तो लम्बी राजनेतिक पार्टियों की जम्बो लिस्ट है लेकिन उन सभी पार्टियों में कुछ अहम देखने को मिल रहा ,वैसे तो अभी जयपुर में MI ROAD पर एक निजी होटल में कुछ पार्टियों के मीटिंग हुई है लेकिन सिफ बाते - एकजुट होने के कोई संकेत नहीं मिले | भाजपा ने बदले - 60% से अधिक प्रत्याशी - भाजपा के चाणक्य अमित शाह राजस्थान में मुख्य रूप से सक्रिय है प्रतिदिन की मीटिंग के मीटिंग मिनिट्स तक उन तक पहुँच रही है भाजपा कार्यलय में अभी कुछ समय पहले हुई मीटिंग में अमित शाह ने साफ कह दिया था की जिला अध्यक्षों को टिकट नहीं मिलेगा चाहे तो पार्टी छोड़ सकते है जिसके बाद सभी जिलाध्यक्ष अपने संघटन के कार्य में लग गए वेसे लगभग सभी जिलाध

बाबा साहेब द्वारा बनाया गया "भारतीय सविंधान" भारत को सदियों तक ऊर्जावान रखेगा- कपिल गौतम प्रेम

  सविंधान दिवस विशेष - बाबा साहेब द्वारा बनाया गया सविंधान सदियों तक भारत को ऊर्जावान बनाये रखेगा- कपिल गौतम प्रेम सविंधान महज एक औपचारिकता नही है यह एक समाज,एक गांव,एक देश सभी को ध्यान में रखकर और सभी अंगों से मिलकर बना है। 26 नवंबर 1949 को बाबा साहेब डॉ०आंबेडकर ने सविंधान को प्रस्तुत किया और अंगीकार कर भारत के लोगों को सौंप दिया गया।सविंधान दिवस पर अगर डॉ०आंबेडकर को याद ना किया जाए तो यह एकदम अधूरा है आइये एक नजर डालते हैं हम कैसे बने इस सविंधान के अंग-भारतीय राजनीति व समाज के ऐतिहासिक परिदृश्य में, डॉ. भीमराव अंबेडकर का उदय एक ऐसे जननेता के रूप में हुआ जिसने व्यक्तिगत संघर्ष की बुनियाद पर अपना सारा जीवन समाज की मुख्यधारा से विमुख, जीवन-यापन कर रहे, वंचितों, शोषितों, पीड़ितों के हक की लड़ाई में समर्पित कर दिया। समग्र विकास की उनकी यह विचारधारा (दृष्टिकोण) संविधान निर्माण के दौरान भी परिलक्षित हुई, जो समानता व सर्वकल्याण की वैचारिकी पर केंद्रित है। तत्कालीन परिस्थिति में संविधान का निर्माण निश्चय ही एक दुरुह कार्य था। ऐसे मुश्किल वक्त में बाबा साहेब ने बड़े ही धीरज के साथ प्रारूप समि

लोभ -लालच और प्रलोभन से अब नहीं हो सकेगा धर्म परिवर्तन - राजस्थान सरकार " धर्म स्वांतत्र्य विधेयक -2008 " को कानून बना सकती है |

 नहीं होगा आसा अब .......................धर्म परिवर्तन  जयपुर | राजस्थान सरकार अब लोभ -लालच और प्रलोभन के द्वारा धर्म परिवर्तन करने वाले संगठन पर लगाम लगाने हेतु  " धर्म स्वांतत्र्य विधेयक -2008 " को राष्ट्पति कोविंद द्वारा पास करवाने के लिए अपना उच्चतम प्रयास कर रही है .अगर " धर्म स्वांतत्र्य विधेयक -2008 "  कानून का रूप अख्तियार  कर लेता है तो राजस्थान राज्य में धर्म परिवर्तन करना आसान नहीं होगा , इसके लिए  सरकार से अनुमति लेनी होगी और सरकार की अनुमति के आधार पर ही व्यक्ति अपना धर्म परिवर्तन कर सकेगा | इस कानून के क्या होगे मायने है - एक ख़ास नजर  भारत वर्ष में जाती -भेद  भाव और लिंग के आधार पर उच्च -निच्च के  वर्ग में समाज को बाटा गया है , साथ ही भारतीय संविधान सभी वर्ग -धर्म जात -पात को निराधार मानते हुवे - समानता का अधिकार देता है किन्तु समाज में कथित कुछ धार्मिक संगठनो द्वारा गरीब और समाज के वंचित तबके को लोभ -लालच देकर उनका धर्म परिवर्तन करवाने की घटनाए अकसर देखने और सुनने को मिलती है की कुछ धार्मिक संगठन , एन जी ओ  चोरी - छिपे गरीबो { sc / st } वर्ग के लोगो क