Skip to main content

Posts

Showing posts with the label muslim

तीन तलाक के खिलाफ आवाज़ उठाने वाली निदा को - अब कब्रिस्तान में भी जगह नहीं

यूपी : तीन तलाक जैसी कुप्रथा के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाली बरेली की निदा खान के खिलाफ मुस्लिम मोलवी ने फतवा जारी कर दिया है ,जिसके तहत निदा खान का हुक्का पानी बंद कर दिया गया है | यह फतवा दरगाह आला हजरत के दारूल इफ्ता ने जारी किया है, इसमें कहा गया है कि निदा अल्‍लाह या खुदा के बनाए कानून का विरोध कर रही हैं. इस कारण उनके खिलाफ फतवा जारी किया जा रहा है. बरेली के शहर इमाम मुफ़्ती खुर्शीद आलम ने दरगाह आला हजरत पर हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि [caption id="attachment_7688" align="alignright" width="709"] s - net[/caption] निदा का हुक्का पानी बंद कर दिया गया है | सोमवार को जारी फतवे में कहा गया है कि निदा की मदद करने वाले, उनसे मिलने-जुलने वाले मुसलमानों को भी इस्लाम से खारिज किया जाएगा , निदा अगर बीमार हो जाती हैं तो उनको दवा भी नहीं दी जाएगी. निदा की मौत पर जनाजे की नमाज पढ़ने पर भी रोक लगा दी गई है, इतना ही नहीं निदा के मरने पर उन्‍हें कब्रिस्तान में दफनाने पर भी रोक लगा दी गई है | निदा खान ने किया पलटवार - कहा  पाकिस्तान चले जाए - निदा खान ने प्रेस कॉ

ताजमहल भारतीय संस्कृति पर कलंक- संगीत सोम

दुनियाभर में प्यार के प्रतिक के रूप में सुविख्यात प्रसिद्ध पर्यटन स्थल  - ताजमहल  को उत्तर प्रदेश के पर्यटन विभाग से जुड़ी एक बुकलेट में जगह नहीं दिए जाने  के कारण विवाद बढता जा रहा है और अब राज्य में सत्तासीन भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के विवादास्पद विधायक संगीत सोम ने ताजमहल को 'भारतीय संस्कृति पर कलंक' बताते हुए कहा है कि ताजमहल का निर्माण 'गद्दारों' ने किया था | संगीत सोम ने कहा, "बहुत से लोग इस बात से चिंतित हैं कि ताजमहल को यूपी टूरिज़्म बुकलेट में से ऐतिहासिक स्थानों की सूची से हटा दिया गया है  किस इतिहास की बात कर रहे हैं हम - जिस शख्स (शाहजहां) ने ताजमहल बनवाया था, उसने अपने पिता को कैद कर लिया था - वह हिन्दुओं का कत्लेआम करना चाहता था- अगर यही इतिहास है, तो यह बहुत दुःखद है, और हम इतिहास बदल डालेंगे " मैं आपको गारंटी देता हूं " संगीत सोम ने मुगल बादशाहों बाबर, औरंगज़ेब और अकबर को 'गद्दार' कहा, और दावा किया कि उनके नाम इतिहास से मिटा दिए जाएंगे | बीजेपी के ही  सांसद अं शुल वर्मा ने भी इसी विचार से सहमति जताते हुए कहा, "ताजमहल पर्यटन

तलाक......तलाक .......तलाक अब और नहीं -

तीन तलाक के मामले में आज शीर्ष अदालत ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने एक साथ तीन तलाक को खत्म कर दिया है। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा- केंद्र सरकार 6 महीने में संसद में इसको लेकर कानून बनाए। सुप्रीम कोर्ट में मुख्य न्यायधीश जेएस खेहर के नेतृत्व में 5 जजों की  पीठ ने फैसला सुनाया। कोर्ट में तीन जज तीन तलाक को अंसवैधानिक घोषित करने के पक्ष में थे, वहीं 2 दो जज इसके पक्ष में नहीं थे। तीन तलाक  फैसले से जुड़े तथ्य - सुनवाई के दौरान जस्टिस आरएफ नरिमन, जस्टिस कुरियन जोसेफ और जस्टिस यूयू ललित तीन तलाक को असंवैधानिक घोषित करने के पक्ष में थे. वहीं चीफ जस्टिस जेएस खेहर और जस्टिस अब्दुल नजीर इसके पक्ष में थे . सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में तीन तलाक को खत्म कर दिया है, कोर्ट ने इसे अंसवैधानिक बताया दिया है. -  सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि तीन तलाक आर्टिकल 14, 15 और 21 का उल्लंघन नहीं है. यानी तीन तलाक असंवैधानिक घोषित नहीं किया जा सकता है.   कोर्ट की कार्यवाही शुरू, मुख्य न्यायधीश जे. एस. खेहर ने बोलना शुरू किया. सुप्रीम कोर्ट के कमरा नंबर 1 में होगी मामले की सुनवाई.   याचिका कर्ता सायर

आईएस माड्यूल का इंटरनेट कनेक्शन राजस्थान में भी

जयपुर। मध्यप्रदेश में ट्रेन में विस्फोट कर देशभर से सनसनी फैलाने वाले आईएस माड्यूल का इंटरनेट कनेक्शन तीन राज्यों में अधिक मिला है, जिसमें राजस्थान भी एक है। राज्य में आईएस से जुड़े जमील अहमद की गिरफ्तारी के बाद प्रदेश एटीएस चेन्नई से मोहम्मद इकबाल को प्रोडक्शन वारंट पर लाई थीं। इससे पूर्व भी जवाहर नगर से आईएस का एक एजेंट गिरफ्तार हुआ था, जो तेल कंपनी में इंजीनियर था। इन राज्यों में मिला नेटवर्क का लिंक आईएस के लिए किसी न किसी रूप से काम करने वाले लोग इंटरनेट, सोशल साइट्स व एप के माध्यम से एक दूसरे से जुड़े हैं। हाल में एमपी में ट्रेन में विस्फोट व आईएस के कमाण्डर के एनकाउंटर के बाद जांच में लगी सुरक्षा एजेंसियों ने दावा किया है कि मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश व राजस्थान में इस नेटवर्क का लिंक मिला है जो आईएस के सपोर्ट में काम करते हैं। एमपी में विस्फोट के बाद यूपी से पकड़े गए तीन संदिग्ध लोगों की सोशल अकांउट से राजस्थान के कोटा, बूंदी, सवाई माधोपुर, जोधपुर, अजमेर व सीकर के कई लोग जुड़े हैं। अधिकांशत लोग सीधे आईएस से नहीं जुड़े हैं, पर आईएस के लिए पेशेवर तरीके से काम कर रहे खास सरगनाओं से