Skip to main content

Posts

Showing posts with the label modi ki not bandi fel

नोट बंदी को एक साल पूरा , प्रधानमंत्री मोदी कर सकते है "बेनामी संपत्ति पर सर्जिकल स्ट्राइक्" -

जयपुर | देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने के लिए पिछले साल 8 नवंबर 2016 को देश में नोट बंदी का ऐलान किया था जिसके तहत 8 नवंबर 2016 रात्रि 12 बजे बाद 500 व् 1000 हजार रुपए के नोट वेध नहीं माने जायेगे और चलन से बाहर हो जायेगा का ऐलान किया था |  अब  नोट बंदी को एक साल पूरा हो रहा है मोदी सरकार जहाँ नोट बंदी को सफल मान रही है तो विपक्ष इसे बड़ा घोटाला मान रहा  है  अब जब नोटबंदी के एक साल पूरे हो रहे हैं ऐसे में आम नागरिक से लेकर सरकार के ही लोग और विपक्षी दल सभी की निगाहें इस बात पर टिकी हुई हैं कि आखि र इस बार पीएम मोदी क्या करने जा रहे है | नोट बंदी और जनता - संवाद  प्रशांत दुबे -   मोदी सरकार अपने उद्देश्य को सही रूप से कियान्वयन नहीं कर सकी   ,सरकार का रोड मेप अधुरा जिसके कारण  बाजार अस्थिर रहा और  GDP को डी -ग्रौथ पर ला दिया | हेमंत जांगिड़  - नोट बंदी से कुछ ज्यादा परेशानी नहीं हुई  लेकिन GST के कारण व्यपारी वर्ग को खासी समस्या से जूझना पड़ा GST पोर्टल में कई  खामिया थी  जिसके कारण  व्यपारी वर्ग को  समस्या का सामना करना पड़ा |  मुकेश सैनी - जमीनी स्तर पर क

क्या प्रधानमंत्री मोदी की नोटबंदी फ़ेल-

मोदी सरकार की  नोट बंदी  पूरी तरह फेल -  बुधवार को रिजर्व बैंक के आंकड़ों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी  योजना को बुरी तरह  फ्लॉप शो साबित कर दिया है   |  500 रुपये और 1000 रुपये के पुराने नोटों को बंद करने की जो  कसरत  हुई, उस कसरत की कीमत महज  16 हजार करोड़ रुपये ही निकली है |  जमा हुए बंद नोट गिनने में 8 महीने लगा देने वाले रिजर्व बैंक ने फाइनली जब नोट गिनकर बताए तो ये पता चला कि ज़्यादातर नोट तो वापस जमा हो चुके है  अब  सवाल उठने शुरू हो गए हैं कि क्‍या नोटबंदी के जरिए कालेधन को सफेद किया गया ? रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया की सालाना रिपोर्ट में दिए आंकड़ों पर एक नज़र-  -नोटबंदी से पहले बाजार में 1000 रुपये के 633 करोड़ नोट थे, जिसमें से नोटबंदी के बाद 98.6 फीसदी नोट वापस बैंकों में जमा हो चुके | -1000 रुपये के सिर्फ़ 8 करोड़ 90 लाख नोट जमा नहीं हुए, मतलब  8900 करोड़ रुपये वापस नहीं लौटे   -आरबीआई ने 500 रुपये के पुराने नोट पर कोई आंकड़ा नहीं दिया है और ये कहा है कि अभी वेरीफिकेशन चल रहा है -कुल आंकड़े के मुताबिक बंद हुए 15 लाख करोड़ रुपये के नोटों में सिर्फ 16 हज़ार क रोड़ रुपये