Skip to main content

Posts

Showing posts with the label kiran maheshwari

राजस्थान विश्वविद्यालयों में छात्रसंघ चुनाव का ऐलान -

31 अगस्त को होगे  छात्र संघ चुनाव - जयपुर, 20 अगस्त। प्रदेश की 14 विश्वविद्यालय और उनसे संबंद्ध महाविद्यालयों में छात्रसंघ चुनाव दो चरणों में आयोजित किए जाएंगे। जोधपुर संभाग में 10 सितंबर को वहीं संपूर्ण प्रदेश में 31 अगस्त को चुनाव करवाए जाएंगे। प्रदेश भर में मतगणना 11 सिंतबर को एक साथ करवाई जाएगी। उच्च शिक्षा मंत्री श्रीमती किरण माहेश्वरी ने सोमवार को बताया कि लिंगदोह समिति की सिफारिशों के अनुसार प्रदेश की सभी महाविद्यालय और विश्वविद्यालयों में चुनाव करवाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि जोधपुर संभाग को छोड़कर समस्त प्रदेश भर में मतदाता सूचियों का प्रकाशन 23 अगस्त को किया जाएगा। 24 अगस्त को मतदाता सूचियों पर आपत्ति प्राप्त करना और मतदाता सूचियों का अंतिम प्रकाशन किया जाएगा। 25 अगस्त को उम्मीदवार नामांकन पत्र दाखिल कर पाएंगे। इसी दिन उम्मीदवारों के नामांकन पत्रों की जांच और आपत्तियां प्राप्त की जाएंगी। वैद्य नामांकन सूची का प्रकाशन, उम्मीदवारों द्वारा नाम वापसी और उम्मीदवारों की अंतिम नामांकन सूची का प्रकाशन 27 अगस्त को होगा जबकि 31 अगस्त को सुबह 8 बजे से अपरान्ह 1 बजे तक मतदान प्रक्रिया सम्

अजमेर लोकसभा उपचुनाव BJP और कांग्रेस दोनों के लिए ही आसान नहीं -

राजस्थान। अजमेर लोकसभा उपचुनाव भाजपा और कांग्रेस दोनों के लिए ही आसान नहीं है। केंद्र और राज्य की सत्ता के दम पर भाजपा चुनावी मैदान  पार करने में पूरा दम लगाएगी, लेकिन सत्ता विरोधी स्वभाविक माहौल उसके लिए बड़ी परेशानी का कारण बनेगा। कांग्रेस सिर्फ सत्ता विरोधी माहौल की नाव पर सवार होकर चुनावी नैया पार नहीं कर  सकती, उसके लिए सबसे बड़ी चुनौती अंदरूनी कलह और बिखरा संगठन ही रहेगा।   भाजपा की सोशल इंजीनियरिंग दांव पर   केंद्र व राज्य में भाजपा की सरकार होने से भाजपा काे कुछ हद तक इसका लाभ मिलेगा लेकिन यह चुनाव उतना आसान नहीं है। हाल ही में गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने बयान दिया कि भाजपा के सामने कोई चुनौती नहीं है, लेकिन जमीनी हकीकत इससे अलग नजर आ रही है। राजनीति के मामलों के जानकारों का है कि सांवर लाल जाट के निधन के बाद अजमेर लोकसभा क्षेत्र में उप चुनाव भाजपा के लिए एक मुश्किल मामला हो सकता है, क्योंकि पार्टी जिस सोशल इंजीनियरिंग को लेकर चल रही है उसकी सफलता संदेहास्पद है। पिछले कुछ समय से जातिगत राजनीति के कई रंग अजमेर में देखने काे मिले हैं।   भाजपा के खिलाफ नाराजगी   आनंदपाल के मा