Skip to main content

Posts

Showing posts with the label india

राजनाथ सिंह और जयशंकर से राष्ट्रपति ट्रंप ने की भारत-अमेरिका संबंधों पर चर्चा

नई दिल्ली। भारत और अमरीका के बीच दूसरी 22 बैठक में विदेश नीति, रक्षा और आपसी सुरक्षा के मुद्दों की व्‍यापक समीक्षा की गई। भारत और अमरीका के बीच 22 यानी विदेश और रक्षा मंत्रियों की बैठक में द्विपक्षीय संबंधों पर व्‍यापक विचार-विमर्श किया गया। भारत ने अमरीका का आपदा पुनर्निर्माण संरचना संगठन-सी डी आर आई के संस्‍थापक सदस्‍य के रूप में स्‍वागत किया। अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने राजनाथ सिंह और जयशंकर से की भारत-अमेरिका संबंधों पर चर्चाअमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने राजनाथ सिंह और जयशंकर से भारत-अमेरिका संबंधों पर चर्चा की। व्हाइट हाउस स्थित राष्ट्रपति के कार्यालय ओवल ऑफिस में करीब 30 मिनट तक चली। तीन दिवसीय वाशिंगटन के दौरे पर आए जयशंकर ने कहा, 'राष्ट्रपति ट्रंप से बैठक एक शिष्टाचार भेंट थी,' उन्होंने बताया कि इस दौरान दोनों देशों के विभिन्न मुद्दों पर हुई प्रगति पर चर्चा की गई। जयशंकर ने बताया कि इस दौरान कारोबार पर संक्षिप्त चर्चा हुई। जयशंकर ने कहा कि यह विषय बड़े एजेंडे के अंतर्गत आता है. यह बैठक उस दिन हुई जिस दिन अमेरिकी कांग्रेस के निचले सदन हाउस ऑफ रिप्रजंटेटिव ने ट्रंप के खिलाफ

सुप्रीम कोर्ट: अयोध्या मामले की सुनवाई आज, 18 समीक्षा अर्जियों पर होगा फैसला

दिल्ली। सु्प्रीम कोर्ट के पांच जजों ने बितें दिनों अयोध्या  की विवादित भूमि का  2.77 एकड़ भूमि पर राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ कर दिया था। न्यायालय की वेबसाइट पर अपलोड की गयी कार्यसूची के अनुसार संविधान पीठ चैंबर में कुल 18 पुनर्विचार याचिकाओं पर विचार करेगी। इनमें से नौ याचिकायें तो इस मामले के नौ पक्षकारों की हैं जबकि शेष पुनर्विचार याचिकायें 'तीसरे पक्ष ने दायर की हैं। आपको बता दें कि  अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में उच्चतम न्यायालय के नौ नवंबर के फैसले पर पुनर्विचार के लिये दायर याचिकाओं पर शीर्ष अदालत बृहस्पतिवार (12 दिसंबर) को चैंबर में विचार करेगी। प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ इन पुनर्विचार याचिकाओं पर चैंबर में विचार करेगी। बता दें कि  यह फैसला सुनाने वाली संविधान पीठ की अध्यक्षता कर रहे प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई चूंकि अब सेवानिवृत्त हो चुके हैं, इसलिए उनके स्थान पर संविधान पीठ में न्यायमूर्ति संजीव खन्ना को शामिल किया गया है। इस मामले में सबसे पहले दो दिसंबर को पहली पुनर्विचार याचिका मूल वादी एम सिदि्दक के

प्रधानमंत्री मोदी भाषण - कुछ सपने , कुछ जुमले

दिल्ली | आज देश अपनी आजादी की 72 वीं वर्षगाँठ मना रहा है इस अवसर पर देश के प्रधानमंत्री मोदी ने लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधन किया ,  प्रधानमंत्री मोदी के भाषण में देश के सभी गंभीर विषयों पर अप्रत्यक्ष रूप से अपने विचार प्रकट करे |   प्रधानमंत्री के भाषण की मुख्य बाते - तीन तलाक पर मोदी ने कहा की मुस्लिम महिला ओं के साथ गंभीर अन्यया होता है इस कुप्रथा को ख़त्म करने लिए हमारी सरकार प्रयासरत है कुछ लोग हमारी प्रयास में रोढे दाल रहे है लेकिन हम सकारात्मक रूप से मुस्लिम बहनों को इश्वास दिलाता हों , हम उनके साथ मजबूती से खड़े  और उन्हें न्याय दिला के रहेगे | राक्षसी प्रवृत्ति पर प्रहार करने की आवश्यकता है, महिलाओं की सुरक्षा और सम्मान को अक्षुण्ण रखने के लिये किसी को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जा सकती। महिला अधिकारियों के शॉर्ट कमीशन सर्विस के माध्यम से चयन की आज लालकिले से मैं घोषणा करता हूं। जम्मू-कश्मीर के लिए अटल जी का आह्वान था- इंसानियत, कश्मीरियत, जम्हूरियत। मैंने भी कहा है, जम्मू- कश्मीर की हर समस्या का समाधान गले लगाकर ही किया जा सकता है। हमारी सरकार जम्मू-कश्मीर के स

चुनाव से पहले राजस्थान में BJP ने चला मास्टरस्ट्रोक -

जयपुर। राजस्थान में विधानसभा चुनाव से पहले होने वाले टिकट वितरण के लिए सत्तारुढ़ भाजपा ने फिर से सत्ता में वापसी करने की कोशिश कर दी है। आपको बता दें कि इस साल दिसंबर में राज्य में नई सरकार शपथ लेगी। इससे पहले राज्य में होने वाले चुनाव में टिकट वितरण के लिए भाजपा ने तैयारी शुरु कर दी है। जिलों में पार्टी और मौजूदा विधायकों की स्थिति जांचना शुरू कर दी है। इसके लिए हर जिलें में बीजेपी नेताओं के तीन दिन के प्रवास भी हो रहे है। इस प्रवास के दौरान भाजपा ने अपने आला नेताओं को विभिन्न जिलों में भेजा है। जहां वे अपने विधायकों की स्थिति का आंकलन करने के साथ-साथ अपनी पार्टी के लिए जिताउ प्रत्याशियों की संभावनाओं की तलाश शुरु करेंगें। अपने प्रवास के दौरान पार्टी के नेता देखेंगे कि आने वाले चुनवा के लिए विभिन्न विधानसभा क्षेत्र से जिताऊ प्रत्याशी कौन होगा। आपको बता दें आला नेताओं की ये रिपोर्ट प्रदेश नेत्तृव के साथ राज्य की मुख्यमंत्री के साथ-साथ आलाकमान को भी भेजी जाएगी। जानकारी के अनुसार पार्टी ने मंत्रियों को उनके जिले न भेजकर दूसरे जिलों में भेजा है। पार्टी का मानना है कि अगर कहीं खामी पाई जा

भ्रष्टाचार को लेकर PM मोदी ने किया कांग्रेस पर हमला, लगाया ये आरोप

नई दिल्ली। कांग्रेस ने भ्रष्टाचार को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुये आज आरोप लगाया कि उनके नेतृत्व वाली सरकार में घोटालेबाज मौज कर रहे हैं और सरकार के पारदर्शिता के दावे खोखले साबित हो रहे हैं। कांग्रेस ने ट्वीट कर कहा कि मोदी सरकार में खुली लूट मची हुई है और भारत बड़े भ्रष्टाचारी देशों की सूची में शामिल है।   पार्टी ने एक अखबार की खबर भी पोस्ट की है जिसमें एक सर्वेक्षण के हवाले कहा गया है कि 180 देशों की सूची में 2017 में भारत की रैंकिंग दो पायदान नीचे खिसकी है और हम 81वें स्थान पर आ गये हैं। पार्टी ने मोदी से सवाल किया कि भ्रष्टाचार को लेकर उनकी नींद कब खुलेगी। पार्टी ने एक अन्य ट्वीट में कर्नाटक के रेड्डी बंधुओं का जिक्र करते हुए कहा है कि देश में लगातार घोटाले सामने आ रहे हैं, लेकिन आश्चर्य की बात है कि भारतीय जनता पार्टी कर्नाटक में प्रचार के लिए घोटालों के आरोपी रेड्डी बंधुओं की मदद ले रही है। कांग्रेस ने तंज कसते हुए कहा है कि मोदी के आशीर्वाद से भ्रष्टाचारी भाजपा सरकार में सत्ता का आनंद ले रहे हैं। कांग्रेस ने नोटबंदी को लेकर भी मोदी सरकार पर हमला किया और कहा

भारत और इजरायल बन सकते है सुपर पावर -

इजरायल प्रधानमंत्री नेतन्याहू भारत दौरा........ छह दिवसीय दौरे पर इजरायल के प्रधानमंत्री नेतन्याहू रविवार को भारत पहुँचे  |एयरपोर्ट  पर  भारत के  प्रधानमंत्री मोदी ने उनका व्यक्तिगत स्वागत किया | इसके साथ ही इजराइल प्रधानमंत्री नेतन्याहू को  राष्ट्रपति भवन पहुचे  जहाँ उनके सम्मान में  गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया | इसके बाद  मोदी जी और नेतन्याहू राजघाट पहुच कर  राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जी को पुष्प  अर्पित करे | मोदी जी और नेतन्याहू के बीच कही मुख्य अहम्  योजनाओं पर बातचीत हुई | भारत सुपर पावर - इजरायल कृषि व् अन्य तकनिकी क्षेत्रो , हथियारों के निर्माण में आगे है तथा भारत भी अन्तरिक्ष प्रणाली में नित नए आयाम स्थापित कर रहा है तथा अब जब भारत को इजरायल के साथ मिल जाएगा तो भारत हर मोर्चे पर मजबूत होगा जिसे भारत विकसित देशो की श्रेणी में  शामिल हो जाएगा और विश्व मंच पर [caption id="attachment_5200" align="alignright" width="447"] s net[/caption] भारत की पहचान एक सुपर पावर देश की रूप में उभर कर आएगी | दोनों देशो के मध्य रिन्यूवेबल एनर्जी तकनीक पर और साइबर सिक्यूरिट

राष्ट्रपति ने संविधान दिवस समारोह में सरकार की तीन शाखाओं के बीच स्वतंत्रता, समानता और भाईचारे पर कहा -

भारत के राष्ट्रपति ने संविधान दिवस समारोह का उद्घाटन किया; सरकार की तीन शाखाओं के बीच स्वतंत्रता, समानता और भाईचारे पर बल दिया  भारत के राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद ने आज नई दिल्ली में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आयोजित संविधान दिवस समारोह का उद्घाटन किया। 26 नवम्बर, 1949 को भारत का संविधान पारित किए जाने की वर्षगांठ मनाने के सिलसिले में यह कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस अवसर पर राष्ट्रपति ने कहा कि हमारा संविधान गतिहीन नहीं है, बल्कि एक जीवंत द स्तावेज है। संविधान सभा इस बात के प्रति सजग थी कि संविधान को नए धागों से अंतर-गुंथित करने की आवश्यकता पड़ेगी। गतिशील जगत में लोगों की सेवा करने का यह उत्कृष्ट तरीका है। पिछले वर्षों में संसद ने संविधान में अनेक संशोधन किए हैं। राष्ट्रपति ने कहा कि संविधान एक अमूर्त आदर्श मात्र नहीं है, इसे देश की हर गली, हर गांव और हर मोहल्ले में आम जनता के जीवन को सार्थक बनाना होगा। संविधान को रोजमर्रा के अस्तित्व से जुड़ना होगा और उसे अधिक सुरक्षित बनाना होगा। राष्ट्रपति ने कहा कि संवैधानिक परियोजना का केंद्र बिंदु विश्वास था – एक दूसरे पर विश्वास, संस्थानों

बाबा साहेब द्वारा बनाया गया "भारतीय सविंधान" भारत को सदियों तक ऊर्जावान रखेगा- कपिल गौतम प्रेम

  सविंधान दिवस विशेष - बाबा साहेब द्वारा बनाया गया सविंधान सदियों तक भारत को ऊर्जावान बनाये रखेगा- कपिल गौतम प्रेम सविंधान महज एक औपचारिकता नही है यह एक समाज,एक गांव,एक देश सभी को ध्यान में रखकर और सभी अंगों से मिलकर बना है। 26 नवंबर 1949 को बाबा साहेब डॉ०आंबेडकर ने सविंधान को प्रस्तुत किया और अंगीकार कर भारत के लोगों को सौंप दिया गया।सविंधान दिवस पर अगर डॉ०आंबेडकर को याद ना किया जाए तो यह एकदम अधूरा है आइये एक नजर डालते हैं हम कैसे बने इस सविंधान के अंग-भारतीय राजनीति व समाज के ऐतिहासिक परिदृश्य में, डॉ. भीमराव अंबेडकर का उदय एक ऐसे जननेता के रूप में हुआ जिसने व्यक्तिगत संघर्ष की बुनियाद पर अपना सारा जीवन समाज की मुख्यधारा से विमुख, जीवन-यापन कर रहे, वंचितों, शोषितों, पीड़ितों के हक की लड़ाई में समर्पित कर दिया। समग्र विकास की उनकी यह विचारधारा (दृष्टिकोण) संविधान निर्माण के दौरान भी परिलक्षित हुई, जो समानता व सर्वकल्याण की वैचारिकी पर केंद्रित है। तत्कालीन परिस्थिति में संविधान का निर्माण निश्चय ही एक दुरुह कार्य था। ऐसे मुश्किल वक्त में बाबा साहेब ने बड़े ही धीरज के साथ प्रारूप समि