Skip to main content

Posts

Showing posts with the label hemant khinchi

महर्षि वाल्मीकि हमारे आदर्श समानता- समरसता के प्रतिक - दीपा खींची

 महर्षि वाल्मीकि जयंती - विशेष Deepa khinchi Puli said that Maharishi Valmiki gave the message of equality, harmony in the society.  Everyone should follow their stated path. [caption id="attachment_10100" align="alignnone" width="836"] दीपा खींची - महर्षि वाल्मीकि जी दीप प्रज्वलित करते हुयें[/caption] जयपुर | महर्षि वाल्मीकि जयंती के अवसर पर भाजपा महिला नेत्री दीपा खींची ( वार्ड नं.117 ) ने सुभाष चौक पर भाजपा कार्यकर्ता व महिला साथियों के साथ " महर्षि वाल्मीकि शौभायात्रा " के   मुख्यरथ का दीप प्रज्वलित कर माल्यार्पण व् पुष्प वर्षा की | दीपा खींची ने कहा कि महर्षि वाल्मीकि ने समाज में समानता, समरसता का संदेश दिया। उनके बताए मार्ग का अनुसरण सभी को करना चाहिए | इस अवसर पर जयपुर शहर में  आपसी सोहार्द व् भाईचारा देखने को मिला  भाजपा युवा नेता हेमंत खींची -  ने महर्षि वाल्मीकि शौभायात्रा का धज्वा के अग्रदूत के रूप में बड़ी चौपड़ से ब्रह्पुरी तक पथ संचलन किया व्  पुष्प वर्षा और फल वितरित कियें  |  

देश को विश्वगुरु बनाने के लियें , मातृ-शक्ति { महिलओं } की भूमिका निश्च्चित हो - दीपा खींची

संवैधनिक मूल्यों के आधार पर ,महिलाओं को समाज मे समानता , युवाओं को रोजगार, समान शिक्षा,दबे- कुचले लोगो के लिए अवसर तैयार करना, भयमुक्त स्वतंत्र व मजबूत लोकतंत्र स्थापित करना। [caption id="attachment_10056" align="alignright" width="317"] DEEPA KHINCHI[/caption]   NAME – DEEPA DOB  - 20JULY 1982 M  – 9680157811, 9588824732 WARD NO . - 177 , VIDHANSABHA - KISHANPOL E - MAIL -   HEMDEEPLUCKY@GMAIL.COM ADD – R 202 JIVAM MARG LAXMI NARAYANPURI SURJPOL GATE JAIPUR   दीपा खींची  का जन्म चाकसू तहसील के खोटखावदा ग्राम में हुआ , इनकी शादी श्रीमान हेमंत खींची से हुई , हेमंत खींची भाजपा के सक्रिय कार्यकर्ता है संगठन { भाजपा } ने इन्हें सन 2002 में “ जयपुर ग्रामीण किसान मौर्चा के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी दी , जिसका इन्होने पूर्ण निष्ठा व् ईमानदारी से कार्य का निर्वहन किया व् भाजपा संगठन की रीति – नीति व् हिंदुत्व विचारधारा को जन – जन तक पंहुचा कर संगठन को मजबूत किया , इसके साथ ही श्रीमान हेमंत खींची वर्तमान में अखिल भारतीय खटिक समाज के वरिष्ट राष्ट्रिय उपाध्यक्ष्य { य

जिस व्यक्ति ने भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाई उसे ज़ेल- हेमंत खींची

" जिस व्यक्ति ने भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाई , आज उसे भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने की वजह से ही जेल भेजा जा        रहा है और मीडिया पर जस्टिस कर्णन के बयान छापने पर भी पाबंदी लगा दी गई है  " [caption id="attachment_1642" align="alignright" width="181"] हेमन्त खींची                               {{युवा , सामाजिक कार्यकर्त्ता }[/caption] जस्टिस कर्णन ने जजों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री को पत्र लिखा था, ये सब उस एक पत्र का नतीजा है, क्या प्रधानमंत्री मोदी जी को भ्रस्टाचार के खिलाफ लिखे गए पत्र की  जाँच करवा कर  उचित कारवाई नहीं  करनी चाहिए थी क्या , लेकिन  ना भ्रस्टाचार की जाँच हुई न कोई कारवाई | इसके बाद जो हुवा है वो सब के सामने है  | जो की अपने आपमें कई प्रश्न खड़े करता है  जो की विचारनीय है - कही यह सब तो जस्टिस कर्णन  के दलित होने के कारण नहीं हो रहा अगर ऐसा है तो आप  सोच सकते है  की जस्टिस कर्णन के आड़ में समूचे दलित तबके को कठोरता से दबाये जाने की कोशिश है | हम भारतीय सविंधान में वर्णित सभी एक -एक शब्दों का अनुसरण करते है

राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018 के लिए दिल्ली में बिछी विसात -

नई दिल्ली |  मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से ही दलित और वंचित वर्ग के समुदाय और  जातियो को  निरंतर निशाना  बनाया जा रहा है | राजनेतिक पार्टिया दलित समुदाय के लोगो को संविधान में वर्णित अधिकारों के नाम पर मात्र योजनओ का निर्माण तो कर दे ती है लेकिन जमीनी स्तर पर उन योजनाओं पर अमल नहीं होता  | जिसके परिणाम स्वरूप  आजादी के 7 दशक बाद भी  दलित वर्ग सामाजिक हाशिय पर है और रोटी कपडा. शिक्षा .मकान  स्वास्थ्य  जैसी मुलभूत सेवाओं से वंचित है | बाबा साहब डॉ .अम्बेडकर  ने  भी कहा था की जब तक समाज अपने को राजनेतिक  स्तर पर मजबूत नहीं करेगा तब तक समाज हाशिये पर रहेगा और  मुख्यधारा से वंचित रहेगा  यह  कहना है -   हेमंत खिंची   { युवा और सामाजिक कार्यकर्त्ता } आगामी 2018 विधान सभा के लिए  खटिक समाज का प्रतिनिधित्व करने वाले खिंची  ने कहा है कि सरकार दलितों और पिछड़ी जातियो के  विकास के नाम पर मात्र आश्वासन देती है | राजस्थान आज दलितों पर हत्याचार के मामले में प्रथम स्थान पर आ गया है  और राज्य सरकार इस और ध्यान नहीं दे रही है | जिससे दलितों में  सरकार के प्रति नाराजगी है| लेकिन आगामी चुनाव ओं में