Skip to main content

Posts

Showing posts with the label dalit

दलितों को अछूत रखने की साजिश , भाजपा प्रदेश कार्यलय में-

वोट बैंक और राजनीती..............मायने कुछ ख़ास   - जयपुर | राजस्थान में पूर्ण बहुमत से भाजपा की सरकार है लेकिन जयपुर स्थित भाजपा प्रदेश कार्यलय में कुछ ख़ास नजारा देखने को मिलता है | देश के प्रधानमंत्री मोदी जी सबका साथ -सबका विकास की बात करते है तो मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे 36 की 36 कोमों के विकास और साथ की बात करती है | लेकिन जयपुर प्रदेश कार्यलय में स्थित अनुसूचित जाति ,अनुसूचित जन -जाति और ओ बी सी वर्ग के प्रदेशाध्यक्ष को जो बैठने का स्थान दे रखा है वो कुछ विचलित करता है उसका कारण है प्रदेशाध्यक्ष जहाँ बैठते है उन कमरों में छत भी नहीं है मात्र टीन शेट्स ( चदर ) लगी हुई  है उनमे बैठने वाले लोग भी ख़ास है जैस अनुसूचित जाति के प्रदेशाध्यक्ष प्रो (डॉ ) ओ पी मेहन्द्रा जी जो पूर्व विधायक रहे चुके हैऔर मुख्यमंत्री राजे के करीबी माने जाते है  कई महत्पूर्ण पदों की जिमेदारी निभा चुके है |   फिर भी उनके कार्य लय की यह स्थिति कुछ समझ से परे है र यही हाल अनुसूचित जन -जाति मोर्चा व् ओ बी सी के प्रदेशाध्यक्ष का है |अब यह देखना बड़ा दिलचस्प है आखिर उपरोक्त कार्यलय की स्थिति ऐसी क्यों है इ सके पीछे क्य

"आत्मघाती गोल दागने में आर एस एस गैंग का कोई मुकाबला नही" - जाने केसे

एक बात तो साफ हो गयी, आत्मघाती गोल दागने में आर एस एस  गैंग का कोई मुकाबला नही ! पहले कन्हैया कुमार पर हाथ डालकर अपनी पतलून उतरवाई, फिर जिग्नेश मेवाणी पर हाथ डालकर भी वही किया ! हालांकि इनकी मूर्खता कि वजह से देश को दो सबसे बेहतरीन युवा लीडर मिल गये लेकिन इनकी सत्ता कि जड़ भी यहि दोनो हिलायेंगे ! केन्द्र से कॉंग्रेस को हटाने के लिए अपने ऐजेंट अन्ना को अनशन पर उतारा लेकिन वहाँ से इनकी छाती पर पत्थर फोड़ने केजरीवाल निकल आया ! यूपी में चंद्रशेखर रावण को गिरफ्तार कर इन्होंने खुद अपने ताबूत में कील ठोक ली, वो शेर आजाद होते हि पंजा मारेगा ! उसी तरह की  गलती शौर्य दिवस मनाने जा रहे दलित समुदाय के  लोगों पर हमला करके कर ली ! 200 सालों से मनते आर हे शौर्य दिवस को अबसे पाँच दिन पहले तक, दलित या प्रगतिशील तबके के अलावा कोई नहीँ जानता था ! लेकिन अब चार पाँच दिन में हि स्तिथि बदल गयी और इस बहाने दलितों ने आज माहाराष्ट्र बंद का सफल आयोजन कर अपनी ताकत, हिम्मत और एकता भी दिखा दी ! ये तो हुई इन गर्दभ गिरोह के कारनामों पर तीर पलटने वाली बात ! अब करते है, उत्सवो कि बात - तो बात ऐसी है, हमारा देश में  तो

आर्थिक समृद्धि की और ले जाता - भीम बिजनेस एक्सपो का भव्य आगाज

 "नौकरी मांगने वाले नहीं, नौकरी देने वाले बनो -    डॉ  बाबासाहेब अम्बेडकर "               के कथन को साकार करते हुवे  -  भीम  बिजनेस एक्सपो   समय बड़ा परिवर्तनशील है डॉ बाबा साहब आंबेडकर के अथक प्रयास से आज बहुजन समाज सामाजिक रूप से सभी क्षेत्रो में अपनी मुख्य भूमिका निभा रहा है और इसी का ख़ास नजारा  ” भीम बिजनेस एक्सपो ” में देखने को मिल रहा है  | जी हाँ  हम बात कर रहे है जयपुर में आयोजित हो रहे   ” भीम बिजनेस एक्सपो ” की  जो 23 से  25 दिसम्बर 2017  तक  जयपुर में आंबेडकर सर्किल यूथ होस्टल में आयोजित हो रहा है | यह बिजनेस एक्सपो दलित समाज के छोटे -बड़े उधमियो को एक नेटवर्किंग  प्लेटफार्म उपलब्ध करा रहा है जिसके माध्यम से सभी उधमी अपने  बिजनेस को बढ़ा सकते है | डॉ .बाबा साहब आंबेडकर जी ने सामाजिक रूप से हासिये पर पड़े दलित समाज को मुख्य धारा में लाने और सामाजिक ताने -बाने को व्यवस्थित करने हेतु भारतीय संविधान में आरक्षण की व्यवस्था की थी  जिसके परिणाम स्वरूप आज दलित समाज अपने को सामाजिक रूप से मुख्यधारा में लाने हेतु प्रयासरत है  इसमें ही अब भीम बिजनेस एक्सपो मुख्य भूमिका निभा रहा ह

साहित्य को नई दिशा देता, बहुजन लेखकों का महाकुम्भ - बहुजन लिट फेस्ट

बहुजन लिट फेस्ट का भव्य आयोजन - जयपुर | कहा जाता है की साहित्य समाज का दर्पण होता है लेखक वर्ग समाज की यथा स्तिथि को साहित्य के जरिये बयां करते है लेकिन जब साहित्य हो और वो भी दलित साहित्य तो सामाजिक उत्पीड़न और सामाजिक अवस्था का चित्रण यथार्थ हो उठता है और ऐसा ही मंच जयपुर में देखने को मिला -  बहुजन साहित्य महोत्सव में | बहुजन समाज के देश -विदेश से लेखक जयपुर में आयोजितamzn_assoc_ad_type ="responsive_search_widget"; amzn_assoc_tracking_id ="politico24x7-21"; amzn_assoc_marketplace ="amazon"; amzn_assoc_region ="IN"; amzn_assoc_placement =""; amzn_assoc_search_type = "search_widget";amzn_assoc_width ="auto"; amzn_assoc_height ="auto"; amzn_assoc_default_search_category ="Books"; amzn_assoc_default_search_key ="dr ambedkar ";amzn_assoc_theme ="light"; amzn_assoc_bg_color ="FFFFFF"; //z-in.amazon-adsystem.com/widgets/q?ServiceVersion=20070822&Operation=GetScript&

भारत विकसित राष्ट्र नहीं बन सकता यदि जाति, पंथ, धर्म और लिंग पर आधारित असमानताएं विद्यमान हैं: उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू

उपराष्ट्रपति ने ‘सोशल एक्सक्लूजन एण्ड जस्टिस इन इंडिया’ पुस्तक का विमोचन किया - उपराष्ट्रपति, श्री एम. वेंकैया नायडू ने कहा है कि हम एक विकसित भारत का निर्माण नही कर सकते यदि समाज में जाति, पंथ, धर्म और लिंग पर आधारित असमानताएं विद्यमान हैं। श्री पी.एस.कृष्णन द्वारा लिखित पुस्तक ‘सोशल एक्सक्लूजन एण्ड जस्टिस इन इंडिया’ का विमोचन करने के बाद उपराष्ट्रपति उपस्थित जनसमुदाय को आज यहां संबोधित कर रहे थे। केंद्रीय सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री श्री थावर चन्द गहलोत व अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे। उपराष्ट्रपति ने कहा कि पिछले सात दशकों से लेखक समाज के वंचित वर्गों की समस्याओं का अध्ययन कर रहे है। इन्होंने भारतीय समाज में भेदभाव को नजदीक से अनुभव किया है। पुस्तक इस तथ्य का साक्ष्य है कि उन्हे वंचित वर्गों, दलितों आदिवासियो और सामाजिक व आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गो के मामलों की गहरी जानकारी है। लेखक को आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में रहने वाले पिछड़े सामाजिक वर्गों की कठिनाईयों का लम्बा अनुभव है और वे इनके निदान के लिए व्यवहारिक और प्रभावी तरीके भी सामने रखते हैं। उपराष्ट्रपति ने क

मोदी सरकार बदल सकती है "भारतीय संविधान" -

जयपुर | बसपा पार्टी द्वारा "पूना पैक्ट धिक्कार दिवस " बनाया गया जिसके मुख्य वक्ता धर्मवीर सिंह अशोक जी रहे | मुख्य वक्ता धर्मवीर सिंह जी ने डॉ बी.आर आंबेडकर और काशीराम जी को पुष्प अर्पित कर "पूना पैक्ट" पर गहन चर्चा की | धर्मवीर जी ने कहा आज समाज को इतिहास और  पूना पैक्ट जानन बहुत जरुरी है ताकि बहुजन समाज को  पता लग सके की - सामाजिक ,आर्थिक .राजनेतिक स्तर पर  आज जो वह जो सम्मान पा रहा  है ,उसके  लिए  बाबा साहब आंबेडकर ने   कितना संघर्ष किया था | गाँधी अछूत ओं के मसीहा बनते थे लेकिन उन्होंने किस तरह से समाज के गरीब ,शोषित ,दलित वर्ग के लोगो के साथ छल -कपट किया , गांधी जी  दलितों को दोहरे मतदान के विरोध में रहे | बाबा साहब ने संविधान के माध्यम से सभी लोगो को सामाजिक जीवन ,और समानता का अधिकार दिया आज बीजेपी और आरएसएस जैसे संघटन सत्ता पाने के लिए दलितों को लालच , झूटे  आश्वासन दे कर वोट बैंक  की राजनिति कर रहे है आज बीजेपी सरकार में बाबा साहब द्वारा लिखित "भारतीय संविधान" को बदलने का पूरा प्रयास किया जा रहा है | आज दलित ,शोषित वर्ग राजस्थान में अपने को ठगा सा

"संयुक्त राष्ट्र संघ जाति के विरोध में बनाएं- अंतरराष्ट्रीय कानून

       "बामसेफ का दूसरा अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन कोलम्बिया विश्वविद्यालय अमेरिका मे सम्पन्न " वाशिंगटन | भारत के संविधान निर्माता डॉ .बी.आर .आंबेडकर के  शोध - " भारत मे जाति व्यवस्था तथा मानव अधिकारो का पतन " ( 1 दशक ) 100 साल  पुरे होने  के उपलक्ष्य पर अंतर्राष्टीय स्तर पर  "भारत मे जाति व्यवस्था" तथा मानव अधिकारो का पतन " पर विचार -विमर्श व् सयुक्त सम्मलेन किया गया  |  यह कार्यक्रम डॉ बी .आर.अम्बेडकर द्वारा 9 सितम्बर 1916 में कोलम्बिया विश्वविद्यालय में जाति व्यवस्था पर लिखे गए शौध (Thesis) के सौ साल पूरे होने पर मनाया गया है  जिसका विषय - बाबा साहेब के द्वारा लिखे गए शोध-   "भारत मे जाति व्यवस्था" तथा मानव अधिकारो का पतन " रहा   इस कार्यक्रम में सिख संस्थाओं में शिरोमणि अकाली दल अंमृतसर अमेरिका के साथी सरबजीत सिंह खालसा, स. हंसरा जी , तथा अन्य साथियों ने अपने विचार रखे। कार्यक्रम की अध्यक्षता मा. वामन मेश्राम ने की। अध्यक्ष मा. वामन मेश्राम  ने  डा. बी .आर .अम्बेडकर जी की सौ साल पहले की गई बात जाति व्यवस्था को खत्म किए बगैर हम भारत में

राजस्थान सरकार के तीन वर्ष और दलित......

राजस्थान सरकार के तीन वर्ष और दलित........... राजस्थान की वर्तमान सरकार ने अपने तीन साल का कार्यकाल पूरा कर लिया है जिसके दौरान राज्य सरकार ने विभिन्न क्षेत्रों में विकास कार्य करने में उपलब्धियां भी प्राप्त की है। इन तीन सालों में तकनीकी सूचना तंत्र व आई.टी.इन्टरनेट, के क्षेत्र में तीव्र गति से जो विकास हुआ है उसको भी राज्य सरकार ने अपने मंत्रालय व विभागों में गुड गर्वेनेंस अपना कर अपने शासन बताया । इन तीन सालों में सरकार ने अनेक चुनौतियों व बाधाओं का सामना भी करना पडा है। परन्तु यदि हम राज्य के दलितों , आदिवासियों व महिलाओं की सामाजिक, आर्थिक स्थिति और उनके विकास के आंकडों पर नजर डाले तो पता चलेगा कि धरातल पर चल रही विकास योजनाओं और कार्यक्रमों का पूरा-पूरा लाभ उन्हे नही मिल पा रहा है। तीन साल पहले पूर्व वृति सरकार द्वारा जो कल्याणकारी योजनाऐं चलाई जा रही थी जिनमे से अनेक कार्यक्रम व योजनाओं को या तो धीरे-धीरे बन्द कर दिया जा रहा है या उन्हें संषोधित करने के नाम पर कुछ कार्यक्रमों को पूरी तरह समाप्त कर दिया गया है जिनमें से प्रमुख कल्याणकारी योजनाऐं और कार्यक्रम जैसे महात्मा गांधी नर

दलित अधिकारों पर राज्य स्तरीय परिचर्चा

दिनांक 4.2.17 जयपुर|   दलित अधिकार केंद्र जयपुर ,पेरवी नई दिल्ही व सिकोइदिकोन्न जयपुर के सयुक्त तत्वधान में दलित अधिकारों पर  राज्य स्तरीय परिचर्चा विकास अध्यन केंद्र  में संपन हुई , परिचर्चा का केंद्र  बिंदु दलितों पर हो रहे हत्यचारो का कारण और सरकार और प्रशासन कि कार्य शेली पर  गहन विचार व अध्यन की प्रतिपुष्टि की गई   इस के  साथ ही दलितों को मुख्यधारा में लाने व सामाजिक विकास , आथिक विकास में बाधक  तत्व को दूर करने के पहलों पर चर्चा की गई |