Skip to main content

Posts

Showing posts with the label arun jetali

देश में पेट्रोल और डीजल 2.50 रुपए सस्ता -

दिल्ली | आज मोदी सरकार ने अपना चुनावी दावं खेला , तीन राज्यों के विधानसभा चुनावों को देखते हुए वित् मंत्री अरुण जेटली ने पेट्रोल और डीजल पर 1.50 रुपये एक्साइज ड्यूटी घटाने की घोषणा कर दी। इसके साथ ही ऑइल मार्केटिंग कंपनियां (ओएमसी) ने भी तेल की कीमतों में एक रुपया कम करने का फैसला किया है अब देश में पेट्रोल और डीजल 2.50 रुपए सस्ता हो गया है  | गौरतलब है की मोदी सरकार ने पेट्रोल डीजल की कीमतों को कम कर देश में एक सकारत्मक सन्देश देने का प्रयास किया है अब तीन राज्यों के विधानसभा के चुनावों की तिथि की घोषणा जल्द होने की संभावना है  

विजय रूपाणी होगे गुजरात सी एम् - नाम पर लगी मुहर

गुजरात | गुजरात सी एम् विजय रूपाणी पर एक बार फिर भाजपा ने भरोसा दिखाते हुवे गुजरात सी एम् के नाम के लिए मुहर लगा दी है इसके साथ ही नितिन पटेल को डिप्टी सीएम चुना गया है मुख्यमंत्री बनाए जाने की घोषणा के बाद प्रतिक्रिया देते हुए रूपाणी ने कहा, "गुजरात के  लोगों ने हमें जनादेश दिया है यह बहुत बड़ी जीत है हम पर 27 वर्षों तक भरोसा बनाए रखा  -amzn_assoc_ad_type ="responsive_search_widget"; amzn_assoc_tracking_id ="politico24x7-21"; amzn_assoc_marketplace ="amazon"; amzn_assoc_region ="IN"; amzn_assoc_placement =""; amzn_assoc_search_type = "search_widget";amzn_assoc_width ="auto"; amzn_assoc_height ="auto"; amzn_assoc_default_search_category ="Books"; amzn_assoc_default_search_key ="ssc ";amzn_assoc_theme ="light"; amzn_assoc_bg_color ="FFFFFF"; //z-in.amazon-adsystem.com/widgets/q?ServiceVersion=20070822&Operation=GetScript&ID=OneJS&WS=1&Marketplace=IN

भारत सरकार - बैंक चेकबुक सुविधा वापस लेने का कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं

होता रहेगा चेकबुक का उपयोग .........................   मीडिया के एक वर्ग में इस आशय की खबरें आ रही हैं कि केन्द्र सरकार डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से निकट भविष्य में बैंक चेकबुक सुविधा वापस ले सकती है। हालांकि,  भारत सरकार द्वारा इस बात से इन्कार किया जाता है कि बैंक चेकबुक सुविधा वापस लेने का कोई भी प्रस्ताव सरकार के विचाराधीन है। [caption id="attachment_2387" align="alignright" width="496"] s pic[/caption] इस संबंध में इस बात पर विशेष जोर दिया जाता है कि वैसे तो सरकार भारत को ‘ कैशलेस‘ अर्थव्यवस्था में तब्दील करने और डिजिटल तथा इलेक्ट्रॉनिक लेन-देन को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है, लेकिन चेक वास्तव में धनराशि भुगतान परिदृश्य का अभिन्न अंग है और इसके साथ ही यह व्यापार एवं वाणिज्य की रीढ़ है।