Skip to main content

Posts

Showing posts with the label ajmer

BJP को लेकर सचिन पायलट ने दिया ये बड़ा बयान, कहा...

अजमेर। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अजमेर और अलवर की लगातार चार साल तक अनदेखी की। उपचुनाव की घोषणा के बाद जब सीएम को रिपोर्ट मिली कि वे यहां से बुरी तरह हार रही हैं तो उन्होंने लगातार दाैरे किए और घोषणाएं की। जब सरकार का 8-9 माह का कार्यकाल ही रहा है तो इन घोषणाओं का औचित्य क्या रह गया है? जनता सब जान चुकी है, वह इन उपचुनाव में बता देगी, यह उपचुनाव जयपुर ही नहीं, दिल्ली तक के सिंहासन को हिला देगी। पायलट मंगलवार शाम अजमेर में पत्रकारों से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यह उपचुनाव प्रदेश और देश की राजनीति में अति महत्वपूर्ण हो गया है। तीनों उपचुनाव में 17 विधानसभा क्षेत्रों में जनता किस करवट बैठने वाली है, इस पर सभी की नजर रहेगी। उन्होंने कहा कि भाजपा के पास अपना कुछ दिखाने के लिए नहीं है। चार साल में राजीव गांधी केंद्र का नाम अटल सेवा केंद्र कर दिया, कांग्रेस के जितने भी प्रोजेक्ट्स हैं, उन्हें ठंडे बस्ते में डाल दिया। मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना का हश्र भी बुरा कर दिया है। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के बीच अनबन का खामियाजा जनता भुगत रही ह

आप नेता कुमार विश्वास लोकसभा उपचुनाव से पीछे हटे -

अजमेर। अजमेर लोकसभा सीट के होने वाले उप चुनाव में आप पार्टी 8 जनवरी को फैसला करेगी कि वह अपना प्रत्याशी उतारेगी या नहीं? 8 जनवरी को दिल्ली में आप पार्टी की पीएसी यानी पाॅलिटिकल अफेयर्स कमेटी की मीटिंग है। जिसमें तय होगा कि लोकसभा के उप चुनाव में पार्टी का क्या फैसला रहेगा। करीब एक सप्ताह पूर्व चर्चा चली थी कि अजमेर लोकसभा के उप चुनाव में अाप पार्टी राजस्थान प्रभार डॉ. कुमार विश्वास को चुनाव मैदान में उतार सकती है। मगर जब उनसे भास्कर ने बात की थी तो उन्होंने इस बात से साफ इंकार कर दिया था कि वे चुनाव नहीं लड़ेंगे। कुछ लोग राज्य सभा में जानने से उन्हें रोकना चाहते है, इसलिए ऐसी अफवाएं चलाई जा रही है। मगर अब अाप पार्टी से राज्य सभा के लिए विश्वास कुमार का नाम नहीं है। ऐसे में अब अजमेर लोकसभा को लेकर आप पार्टी क्या फैसला लेती है? यह 8 तारीख को तय होगा।   आप पार्टी के प्रदेश प्रभारी देवेंद्र शास्त्री का कहना है कि 8 जनवरी को दिल्ली में पीएसी की मीटिंग है। मीटिंग में संयोजक एवं दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल सहित 11 सदस्य भाग लेंगे। पीएसी के सदस्य दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसाेदिया, राजस्थान

भाजपा ने राजस्थान उपचुनाव में इन प्रत्याशीओं को मैदान में उतारा -

भाजपा ने अजमेर सीट पर रामस्वरूप लाम्बा , अलवर से डॉ जसवंत सिंह को यादव ,विधानसभा मांडलगढ़ सीट से शक्ति सिंह को मैदान में उतारा है |  जयपुर | भाजपा ने आज राजस्थान के उपचुनाव के लिए अपने प्रत्याशियों के नाम की घोषणा कर दी है राजस्थान में तीन उपचुनाव होने है  2 लोकसभा व् 1 विधानसभा के लिए | भाजपा की और से सबसे हॉट सीट अजमेर से - रामस्वरूप लाम्बा को मैदान में उतारा है तो अलवर से डॉ जसवंत सिंह को यादव को मैदान में उतारा है उनका मुकाबला कांग्रेस के प्रत्याशी  डॉ कर्ण सिंह यादव से होगा , वही विधानसभा मांडलगढ़ सीट से शक्ति सिंह को मैदान में उतारा है | कांग्रेस में हलचल तेज   - कांग्रेस पार्टी ने राजस्थान उपचुनाव के लिए प्रत्याशियो के नामो को लेकर जल्द ही घोषणा कर सकती है चुनाव आयोग ने नामांकन की अंतिम तिथि 10 जनवरी रखी है अब मात्र नामांकन के लिए तीन दिन बचे है | तीन उपचुनाव के लिय मतदान 29 जनवरी को होगा | सियासत के मायने - ख़ास एक नजर  राजस्थान के उपचुनाव कांग्रेस और भाजपा के लिए आगामी विधानसभा चुनावो से पहले के सेमी फ़ाइनल के रूप में देखा जा रहा है वही कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलेट अजमेर में

राजस्थान: BJP के रामस्वरूप लांबा और कांग्रेस के रघु शर्मा के बीच होगा कड़ा मुकाबला - सूत्र

अजमेर। अजमेर संसदीय क्षेत्र के उप चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के रामस्वरूप लांबा और कांग्रेस के डॉ. रघु शर्मा के बीच ही मुकाबला होने के आसार हैं। हालांकि दोनों ही दलों ने अभी अपने अपने प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की है। भाजपा प्रदेश इकाई पूर्व केंद्रीय मंत्री दिवंगत सांवर लाल जाट के पुत्र ररामस्वरूप लांबा का इकलौता नाम केंद्रीय संसदीय बोर्ड को भेज चुकी है, वहीं कांग्रेस में भी कमोबेश डॉ. रघु शर्मा के नाम पर सहमति बन जाने की चर्चा है।   अजमेर लोकसभा उपचुनाव के लिए बुधवार से नामांकन शुरू हो गए लेकिन अब तक कांग्रेस ने प्रत्याशी को लेकर अधिकृत रूप से घोषणा नहीं की है। वहीं पूर्व मुख्य सचेतक व केकड़ी से पूर्व विधायक डॉ रघु शर्मा के नाम पर सहमति बनने की चर्चाएं बुधवार को भी बनी रही। यह भी चर्चा रही शर्मा के नजदीकी कुछ कार्यकर्ता चुनाव कार्यालय के लिए श्रीनगर रोड पर मकान तलाश रहे हैं। बताया जाता है कि एक भवन को लेकर नगर निगम से यह भी पड़ताल की गई है कि इसका यूडी टैक्स या अन्य कोई कर तो बकाया नहीं है। चुनाव कार्यालय को लेकर बाद में किसी तरह का विवाद नहीं हो, इसलिए पहले ही जांच पड़ताल की जा रह

अजमेर लोकसभा उपचुनाव BJP और कांग्रेस दोनों के लिए ही आसान नहीं -

राजस्थान। अजमेर लोकसभा उपचुनाव भाजपा और कांग्रेस दोनों के लिए ही आसान नहीं है। केंद्र और राज्य की सत्ता के दम पर भाजपा चुनावी मैदान  पार करने में पूरा दम लगाएगी, लेकिन सत्ता विरोधी स्वभाविक माहौल उसके लिए बड़ी परेशानी का कारण बनेगा। कांग्रेस सिर्फ सत्ता विरोधी माहौल की नाव पर सवार होकर चुनावी नैया पार नहीं कर  सकती, उसके लिए सबसे बड़ी चुनौती अंदरूनी कलह और बिखरा संगठन ही रहेगा।   भाजपा की सोशल इंजीनियरिंग दांव पर   केंद्र व राज्य में भाजपा की सरकार होने से भाजपा काे कुछ हद तक इसका लाभ मिलेगा लेकिन यह चुनाव उतना आसान नहीं है। हाल ही में गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने बयान दिया कि भाजपा के सामने कोई चुनौती नहीं है, लेकिन जमीनी हकीकत इससे अलग नजर आ रही है। राजनीति के मामलों के जानकारों का है कि सांवर लाल जाट के निधन के बाद अजमेर लोकसभा क्षेत्र में उप चुनाव भाजपा के लिए एक मुश्किल मामला हो सकता है, क्योंकि पार्टी जिस सोशल इंजीनियरिंग को लेकर चल रही है उसकी सफलता संदेहास्पद है। पिछले कुछ समय से जातिगत राजनीति के कई रंग अजमेर में देखने काे मिले हैं।   भाजपा के खिलाफ नाराजगी   आनंदपाल के मा

प्रधानमंत्री मोदी राजस्थान में संभाल सकते है चुनावी कमान - आखिर क्यों

प्रधानमंत्री मोदी अब राजस्थान विधानसभा के लिए चुनावी कमान संभाल सकते है सूत्रों के अनुसार गुजरात चुनाव में जिस तरह से अंतिम समय में प्रधानमंत्री मोदी जी ने कमान सम्भाली थी जिसके कारण गुजरात्त में बीजेपी वापस सत्ता पर काबिज हो पाई है उसी तरह से मोदी जी राजस्थान में चुनावी सभा कर कार्यकर्ताओं को विश्वास में ले सकते है | ज्ञात हो -  मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और शीर्ष आलाकमान में कुछ मतभेद है लेकिन राजस्थान में मुख्यमंत्री राजे के नेतृत्व में राजस्थान कि जनता ने बीजेपी को पूर्ण बहुमत दे रखा है जिसके कारण निगम सरकार से लेकर विधायक और सांसद सभी भाजपा के है और श्रीमती राजे इसका पूरा फायदा उठा रही है एक तरह से कहा जाये तो सी .एम् राजे के आगे आला कमान बेबस है अब इसे सी एम् राजे का करिश्माई नेतृत्व कहे जा मोदी मेजिक लेकिन राजस्थान में भाजपा पूर्ण बहुमत से है |  जिस तरह से गुजरात में पाटीदार आन्दोलन में मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल को इस्तीफा देना पड़ा था ,उसी प्रकार मुख्यमंत्री राजे पर ललित कांड को लेकर घमासान पार्टी के अन्दर और बाहर चला था किन्तु भाजपा आलाकमान मुख्यमंत्री राजे का इस्तीफा नही ले पाई

राजस्थान: उपचुनाव के लिए 29 जनवरी की तारीख तय-

जयपुर।  राजस्थान की दो लोकसभा और एक विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव को लेकर चुनाव आयोग ने चुनाव की तारीख तय कर दी है। चुनाव आयोग ने उपचुनाव के लिए 29 जनवरी की तारीख तय की है तो इसी के साथ 1 फरवरी को मतगणना की जाएगी । इसके साथ ही 10 जनवरी तक नामांकन करने की अंतिम तारीख है तो प्रत्याशी 15 जनवरी तक अपना नामांकन वापस ले सकते है।   गौरतलब है कि अजमेर सांसद प्रो. सांवरलाला जाट, अलवर सांसद मंहत चांदनाथ और मांडलगढ़ विधायक कीर्ति कुमारी के निधन के बाद तीनो जगह उपचुनाव  होने है  तीनों ही सीटों पर भाजापा का कब्जा था। इन तीन उप चुनावों को राज्य में बेहद ख़ास  माना जा रहा है। क्योंकि राज्य में अगले साल के अंत में  विधानसभा चुनाव होने है   दोनों ही पार्टिया इस चुनाव को सेमीफाइनल के रुप में देख रहें हैं। दोनों ही पार्टियों ने चुनाव में पूरी ताकत झोंक रखी है। तो वहीं कांग्रेस ने अलवर से अपने अपने प्रत्याशी की घोषणा कर दी है। कांग्रेस ने प्रत्याशी के रुप में पूर्व सांसद और पूर्व विधायक डॉक्टर करण सिंह यादव को मैदान में उतारा है।   जबकि मांडलगढ़ और अजमेर को लेकर पार्टी ने अभी कोई भी घोषणा नहीं की है। इ