Skip to main content

Posts

Showing posts with the label Varanasi

राहुल गांधी पहले अमेठी की चिंता कर लेंः BJP

नई दिल्ली। वाराणसी से वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हारने की भविष्यवाणी संबंधी राहुल गांधी की टिप्पणी पर पलटवार करते हुए भाजपा ने आज कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष को अमेठी की चिंता कर लेनी चाहिए और पहले वे वहां हमारी वरिष्ठ नेता स्मृति ईरानी का मुकाबला करके तो दिखायें। भाजपा ने दलितों के मुद्दे पर राहुल गांधी के उपवास को ‘मीडिया इवेंट’ करार दिया । पार्टी ने दावा किया कि भाजपा के दलित सांसदों में कोई असंतोष नहीं है ।   भाजपा के वरिष्ठ राष्ट्रीय प्रवक्ता सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा, राहुल गांधी पहले अमेठी की चिंता कर लें। पहले वह हमारी वरिष्ठ नेता स्मृति ईरानी से मुकाबला करके तो दिखायें, फिर प्रधानमंत्री की बात करें। और अगर फिर भी चाहें, तो वाराणसी से ही चुनाव लड़ लें। उन्होंने कहा कि जितने दल चाहें एकत्र हो लें, देश की जनता मोदीजी के साथ है। लोगों का आर्शीवाद मोदीजी को प्राप्त है । उल्लेखनीय है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रविवार को कहा था कि एकजुट विपक्ष के आगे 2019 जीतना तो दूर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद अपनी वाराणसी सीट भी गंवा देंगे। विपक्षी एकता में

PM मोदी को लेकर कोविंद ने दिया ये बड़ा बयान, कहा...

वाराणसी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र और धार्मिक तथा सांस्कृतिक नगरी वाराणसी के स्मार्टसिटी बनने की दिशा में तेजी से बढऩे पर प्रसन्नता जाहिर करते हुए सोमवार को कहा कि नरेंद्र मोदी ने इंडिया को विश्व पटल पर प्रभावशाली तरीके से स्थापित किया।कोविंद ने सोमवार को यहां पंडित दीन दयाल हस्तकला संकुल में आयोजित एक भव्य समारोह में 170 किलोमीटर लंबी और 3,473 करोड़ रुपए की अनुमानित लागत वाली सडक़ परियोजनाओं का शिलान्यास और उत्तर प्रदेश कौशल विकास मिशन की ओर से प्रशिक्षित युवाओं को नियुक्ति प्रमाण पत्र सौंपने के बाद लोगों को संबोधित कर रहे थे।   उन्होंने कहा कि ज्ञान एवं अध्यात्म की धरती से सांसद बनने के बाद प्रधानमंत्री के रुप में मोदी ने वाराणसी सहित संपूर्ण भारत की प्रतिष्ठा विश्व में और बढ़ाने कामयाबी हासिल की है। यही वजह है कि जापान, जर्मनी एवं फ्रांस के राष्ट्राध्यक्ष वाराणसी की धार्मिक एवं अध्यात्मिक ताकत को देखने यहां आए थे।कोविंद ने वाराणसी को पूर्वी भारत का प्रवेश द्वार बताते हुए कहा कि यहां तेजी से हो रहे सडक़ एवं जल मार्ग के कार्यों से देश की प्रगति की रफ्ता