Skip to main content

Posts

Showing posts with the label Former Chief Minister Ashok Gehlot

कांग्रेस - पत्रकारो और वकीलों को रिझाने की कोशिश

जयपुर | कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलेट ने  केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है की आज देश में भय और असुरक्षा का माहौल है सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने प्रेस कान्फेंस करके यह बताया की आज देश में लोकतान्त्रिक संस्थाओं पर किस तरह दबाव् बनाया जा रहा है | आज लोग भावनाओं का इजहार करने से भी डर रहे है | आज मोदी सरकार में विरोधियों को डराने धमकाने का जो सिलसिला चल रहा है ,आज ऐसे लोग सत्ता  में है जो हर कीमत पर अपनी जिद्द पूरी करना चाहते है | देश की आधी आबादी गरीब है ,उन गरीब लोगो पर प्रभाव बनाकर खुद को शक्तिशाली  बताना बेमानी है | जयपुर में आयोजित कांग्रेस के विधि विभाग की और से बिरला आडिटोरियम में आयोजित संविधान बचाओं देश बचाओं में बोल रहे थे | कांग्रेस विवेक तन्खा ने प्रदेश कांग्रेस से मांग की है की वकील सुरक्षा कानून और पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने का वादा घोषणा पत्र में किया जाए , कांग्रेस के अनुसार कुछ समय में पत्रकार और वकील समुदाय कांग्रेस पार्टी से दूर हुवे है जिसका बड़ा नुकसान कांग्रेस को उतना पड़ रहा है |

काले कानून को लेकर पूर्व CM गहलोत ने राजे सरकार के बारे में कही ये बात!

जयपुर। राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत ने कहा है कि मुख्यमंत्री को तीन उप चुनावों में करारी हार झेलने के बाद मीडिय़ा एवं जनविरोध के भारी दबाव के चलते काला कानून वापस लेने को मजबूत होना पड़ा है। गहलोत ने कहा कि भ्रष्टाचार में डूबी यह सरकार आगामी विधानसभा चुनाव में अपने हश्र को देखते हुए डर गई है। उसका घमण्ड चूर हो गया है। इसी का नतीजा है कि सरकार ने संस्थागत भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने के अपने कुत्सित कदमों को वापस ले लिया है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने एवं पारदर्शिता के लिए सूचना का अधिकार, सुनवाई का अधिकार, सार्वजनिक खरीद में पारदर्शिता कानून, स्पेशल कोर्ट एक्ट, लोकसेवा गारंटी अधिनियम लागू किए थे। लेकिन भाजपा सरकार ने आते ही इन सारे कानूनों को ठण्डे बस्ते में डाल दिया। उन्होंने कहा कि यदि इन कानूनों को यह सरकार अमल में लाती तो काला कानून लाने की जरूरत ही नहीं पड़ती तथा सरकार को ये बदनामी भी नहीं झेलनी पड़ती।

भाजपा सरकार किसानो की और देखो - अशोक गहलोत

जयपुर। राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने करौली, सवाई माधोपुर और धौलपुर जिले में पानी के अभाव में सूख रही फसल से प्रभावित किसानों को शीघ्र राहत प्रदान करने की मांग की है।   गहलोत ने आज एक बयान में कहा कि इन जिलों में साठ से सत्तर प्रतिशत सूखा पडऩे के बाद सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी उपलब्ध नहीं है। करौली में गेंहू के लिए किसानों को छह-सात बार पानी देना पड़ता है जबकि सरसों एवं चना की फसलें भी पानी के अभाव में सूख रही हैं। उन्होंने कहा कि किसान अपने पशुओं को बेचने पर मजबूर हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि धौलपुर जिले में बरैठा एवं मनिया की तरफ आलू की खेती होती है। लेकिन पानी के कारण ये खेती भी पचास प्रतिशत ही रह गई है। क्षेत्र में पांच से सात हजार आवारा पशुओं से भी किसान परेशान है। उन्होंने कहा कि सरकार को पीडि़त किसानों को शीघ्र राहत पहुंचानी चाहिये| भाजपा सरकार को किसानो की स्थिति को देखना चाहिए ,किसान पिछले 5 साल से दयनीय स्थिति में पहुँच गया है आखिर क्यों |