Skip to main content

Posts

Showing posts with the label Ajmer Lok Sabha by-election

रामस्वरूप लांबा के समर्थन में वसुंधरा ने किया प्रचार

अजमेर। राजस्थान में अजमेर लोकसभा उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप के समर्थन में प्रचार के दूसरे दिन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे नसीराबाद विधानसभा क्षेत्र पहुंची।गुर्जर, जाट, रावत मतदाताओं की बाहुलता वाले इस क्षेत्र में जनसंवाद से पूर्व नसीराबाद से वह सबसे पहले सड़क मार्ग से सराधना हाईवे मार्ग राजगढ़ स्थित विख्यात मसाणिया भैरवधाम पहुंची। राजे ने आस्था के इस केंद्र पर भगवान भैरव और मां कालका की पूजा अर्चना करी, दर्शन व आरती की और ढोक लगाकर प्रदेश की खुशहाली के साथ उपचुनाव में भाजपा की जीत की कामना की। उन्होंने मनोकामना स्तंभ पर परिक्रमा भी लगाई। उन्होंने धाम के मुख्य उपासक चंपालाल महाराज के साथ बंद कमरे में मंत्रणा की। इस दौरान मुख्यमंत्री ने एक परिवार के बच्चे के साथ आत्मीयता पूर्ण बातचीत की और उसे दुलार दिया। मुख्यमंत्री यहाँ से पुन: सड़क मार्ग से नसीराबाद पहुंची जहां उन्होंने चुनिंदा गणमान्य लोगों, भाजपा पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं से चर्चा की। उन्होंने मंडल व बूथ कार्यकर्ताओं से संवाद किया और उन्हें भाजपा प्रत्याशी रामस्वरुप लांबा को अच्छे वोटों से जिताने के लिए गुरुमंत्र भी दिय

अजमेर लोकसभा उपचुनाव BJP और कांग्रेस दोनों के लिए ही आसान नहीं -

राजस्थान। अजमेर लोकसभा उपचुनाव भाजपा और कांग्रेस दोनों के लिए ही आसान नहीं है। केंद्र और राज्य की सत्ता के दम पर भाजपा चुनावी मैदान  पार करने में पूरा दम लगाएगी, लेकिन सत्ता विरोधी स्वभाविक माहौल उसके लिए बड़ी परेशानी का कारण बनेगा। कांग्रेस सिर्फ सत्ता विरोधी माहौल की नाव पर सवार होकर चुनावी नैया पार नहीं कर  सकती, उसके लिए सबसे बड़ी चुनौती अंदरूनी कलह और बिखरा संगठन ही रहेगा।   भाजपा की सोशल इंजीनियरिंग दांव पर   केंद्र व राज्य में भाजपा की सरकार होने से भाजपा काे कुछ हद तक इसका लाभ मिलेगा लेकिन यह चुनाव उतना आसान नहीं है। हाल ही में गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने बयान दिया कि भाजपा के सामने कोई चुनौती नहीं है, लेकिन जमीनी हकीकत इससे अलग नजर आ रही है। राजनीति के मामलों के जानकारों का है कि सांवर लाल जाट के निधन के बाद अजमेर लोकसभा क्षेत्र में उप चुनाव भाजपा के लिए एक मुश्किल मामला हो सकता है, क्योंकि पार्टी जिस सोशल इंजीनियरिंग को लेकर चल रही है उसकी सफलता संदेहास्पद है। पिछले कुछ समय से जातिगत राजनीति के कई रंग अजमेर में देखने काे मिले हैं।   भाजपा के खिलाफ नाराजगी   आनंदपाल के मा