Skip to main content

Posts

Showing posts with the label राजनीति-एक नज़र

राजस्थान अब " दलितअत्याचारस्थान " - लॉक डाउन के समय में दलितों अत्याचारों में बढ़ोतरी - प्रशासन की करवाई संदिग्ध

लॉक डाउन की आड़ में दलित अत्याचार चरम पर - जयपुर |  यूपी के संभल की ताजा घटना आप को याद होगी की किस प्रकार दलित नेता  { पिता - बेटे  } की किस प्रकार सभी गांववासियों के सामने गोली मार के हत्या कर दी गई थी अकसर हमारे सामने यूपी की घटना तो सामने आती है लेकिन अब राजस्थान भी दलित .वंचित व् गरीबो पर अधिक हत्याचार हो रहे हैं वैसे  वर्तमान समय में दलित हत्याचार के मामलो में राजस्थान  प्रथम स्थान पर है    राजस्थान के युवा सामाजिक कार्यकर्ता रवि कुमार मेघवाल ने कहा -   वर्तमान लॉक डाउन के समय में जब लोग अपने घरो में केद है फिर भी दलितों पर अत्याचार सवर्णों द्वारा अधिक हो रही है जैसे - गांव सूरतपुरा, मंडावरी  पुलिस थाना, लालसोट (राज. ) प्रकरण  दिनांक 15 मई 2020 को सुबह 7 :30 बजे  सुरतपुरा डालिया की ढाणी मैं एक दलित परिवार के सदस्यों में गाय के खेतों में घुसने संबंधित  विवाद हो गया था जिसके बाद झगड़े में कुछ दलित परिवार के सदस्यों को गंभीर चोट आई वह स्थानीय अस्पताल में अपना इलाज करा रहें थे जब पुलिस प्रशासन को घटना की जानकारी हुई तो पुलिस पीडितो के घर जाकर जांच करने के बजायें पीड़ित परिवार के बच्चे म

शर्मनाक - कांग्रेस पार्टी के पहले अध्यक्ष गोकुल भाई भट्ट की समाधि पर आज भी लगे है ताले - कांग्रेस शासन में भी - अध्यक्ष सचिन पायलेट व् मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आखिर चुप क्यों -

राजस्थान कांग्रेस प्रदेश कार्यलय पर धरना देने की चेतावनी - गांधीवादी संगठनों द्वारा  गोकुल भाई भट्ट की 123 वी जयंती पर उभरा भारी आक्रोश - जयपुर |  राजस्थान के गांधी और प्रदेश कांग्रेस कमेटी राजस्थान के प्रथम अध्यक्ष गोकुल भाई भट्ट की 123 वी जयंती दुर्गापुरा स्थित उनके समाधि स्थल पर मनाई गई। कार्यक्रम की जानकारी देते हुए गोकुल भाई भट्ट स्मारक समिति के प्रवक्ता अनिल गोस्वामी ने बताया कि इस अवसर पर गोकुल भाई भट्ट के पुत्र दिलीप भट्ट सहित बड़ी संख्या में गांधीवादी और सामाजिक कार्यकर्ता उपस्थित थे। इस अवसर पर उपस्थित व्यक्तियों ने अपने विचार प्रकट करते हुए गोकुल भाई भट्ट के व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर उपस्थित अपने विचार प्रकट करते हुए अनेक वक्ताओं ने इस बात पर गहरी नाराजगी प्रकट की गांधी जी को अपना आदर्श मानने मुख्यमंत्री राज्य सरकार के 1वर्ष से अधिक बीत जाने के बावजूद देशभर के गांधीवादियों की आस्था के केंद्र राजस्थान सम्रग सेवा संघ परिसर को जिसे पिछले भाजपा शासन में गैर कानूनी और दुर्भावना से अधिग्रहित किया गया था, उसे आज तक अधिग्रहण से मुक्त नही किया। कार्यक्रम में मुख

दोहरे झटके: झारखंड में हार से भाजपा को राज्यसभा सीटों का होगा नुकसान

नई दिल्ली। झारखंड में राज्यसभा की कुल 6 सीटें हैं, जिनमें वर्तमान में बीजेपी का तीन पर, कांग्रेस और लालू यादव की पार्टी राजद का एक-एक पर कब्जा है। साल 2020, 2022 और 2024 में दो-दो सीटों पर झारखंड में द्विवार्षिक चुनाव होंगे। झारखंड चुनाव के नतीजों के बाद भाजपा को राज्यसभा में सीटों का नुकसान हो सकता है। भले ही अगला लोकसभा चुनाव 2024 में है, मगर उससे पहले राज्यसभा के चुनावों में बीजेपी को झटका लग सकता है। झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 में हार बीजेपी के लिए दोहरे झटके की तरह है। झारखंड में हार से बीजेपी को न सिर्फ सत्ता गंवानी पड़ी है, बल्कि इसका खामियाजा संसद में भी भुगतना पड़ सकता है। बता दें कि झारखंड चुनाव में जेवीएम (प्रजातांत्रिक) ने बीजेपी के खिलाफ चुनाव लड़ा था, मगर अब उसने बीजेपी को समर्थन देना का फैसला लिया है। इन सभी सीटों पर भारतीय जनता पार्टी और जेएमएम-कांग्रेस-राजद गठबंधन के बीच सीधा मुकाबला होगा। क्योंकि राज्य विधानसभा में मौजूदा सियासी अंकगणित ने इसे पेचीदा बना दिया है। विधानसभा और लोकसभा चुनाव के विपरीत राज्य के निर्वाचित विधायक उच्च सदन के उम्मीदवार के लिए वोट करते हैं। झ

विधानसभा चुनाव: झारखण्ड में गठबंधन को प्रचंड बहुमत, 27 को शपथ लेंगे हेमंत सोरेन

रांची। झारखंड विधानसभा चुनाव में झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम), कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) गठबंधन ने बहुमत हासिल कर लिया है। 27 दिसंबर को हेमंत सोरेन मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। जेएमएम के 6, कांग्रेस के 5 और आरजेडी के कोटे से एक मंत्री शपथ लेंगे। यानी हेमंत सोरेन के साथ 12 मंत्री शपथ लेंगे। इसके अलावा कांग्रेस के खाते में स्पीकर पद जा सकता है। बता दें कि बीजेपी को करारी हार का सामना करना पड़ा है। पिछले विधानसभा चुनावों में जहां बीजेपी ने 37 सीटें जीती थीं, वहीं वह इस बार सिर्फ 25 सीटें मिल पाईं। बीजेपी की सहयोगी रही आजसू पिछली विधानसभा में सिर्फ आठ सीटें लड़कर पांच सीटों पर जीती थी, जबकि इस बार उसने 53 सीटें लड़कर महज दो सीटें जीत पाई। झारखंड में झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम), कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) गठबंधन को प्रचंड बहुमत मिला है। गठबंधन ने 81 में से 47 सीटें जीती हैं। इस जीत के बाद अब गठबंधन के नेता जल्द ही सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे। बता दें कि बीजेपी के लिए महतो वोटबैंक में घाटा साबित हुआ है। बिहार में जेडीयू और बीजेपी गठबंधन में हैं लेकिन झारखंड मे

झारखंड विधानसभा चुनाव: जेएमएम और कांग्रेस को स्पष्ट बहुमत, BJP ने स्वीकारी हार

नई दिल्ली। झारखंड विधानसभा की 81 सीटों के लिए पांच चरणों में मतदान की गणना में भाजपा को जेएमएम कांग्रेस गठबंधन ने फिर काफी पीछे छोड़ दिया है। जेएमएम अकेले 30 सीटों पर आगे हो गई है और बीजेपी को पीछे छोड़ राज्य में सबसे बनी पार्टी बन गई है। गठबंधन 47 सीटों पर आगे हो गया है अब देखने वाली बात ये है कि क्या गठबंधन जीत का 'अर्द्धशतक' लगा पाएगी? यानी क्या 50 सीटें उसे मिलेंगी? जमशेदपूर्व से मुख्यमंत्री रघुबर दास इस समय बागी सरयू राय से काफी पीछे हो गए हैं। अभी तक मिल रहे रुझानों के मुताबिक मुख्यमंत्री सहित 5 मंत्री हार की ओर जाते दिख रहे हैं। झारखंड विधानसभा में बहुमत के लिए 41 सीटें चाहिए। झारखंड में गठबंधन के बढ़त की ओर लगातार बढ़ने के बाद कांग्रेस ने सोमवार को उम्मीद जताई कि राज्य में इस गठबंधन को पूर्ण बहुमत मिलेगा और हेमंत सोरेन के नेतृत्व में अगली सरकार बनेगी। कांग्रेस के झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह ने कहा, 'हमने लोगों के जीवन को छूने वाले मुद्दे उठाते हुए चुनाव लड़ा। हमें विश्वास है कि हम सरकार बनाएंगे। JMM- कांग्रेस गठबंधन को मिली बढ़त के बाद हेमंत सोरेन पिता शिबू सोरेन से

रामलीला मैदान पहुंचे लाखों लोग, प्रियंका गांधी का मोदी सरकार के खिलाफ करारा हमला

नई दिल्ली। कांग्रेस की भारत बचाओं रैली में हिस्सा लेने के लिए देश के कोने-कोने से लाखों कांग्रेस कार्यकर्ता रामलीला मैदान पहुंच रहे हैं। प्रियंका गांधी ने रामलीला मैदान की रैली में अपने भाषण की शुरुआत मेरे नेता राहुल गांधी से की। प्रियंका गांधी ने अपने भाषण में मोदी सरकार के खिलाफ करारा हमला बोला है। प्रियंका ने कहा ये देश एक आंदोलन से उभरा है। भाजपा के 6 वर्षो के राज के बाद जीडीपी पाताल पर है। छोटा व्यापारी नाखुश है। बीजेपी है तो 4 करोड़ नौकरियां नष्ट हैं। फिर भी हर बस स्टॉप हर इश्तेहार में मोदी मुमकिन है। गांधी ने कहा कि भाजपा है 100 रुपये प्याज़ मुमकिन है। 4 करोड़ नौकरी नष्ट होना मुमकिन है। 15000 किसानों की आत्महत्या मुमकिन है। भाजपा है जो कानून देश के खिलाफ है मुमकिन है। भाजपा है तो हमारे पीएसयू का बिकना मुमकिन है। प्रियंका ने अपने भाषण में उन्नाव की घटना को याद दिलाया। पीड़ित परिवार का दुखड़ा सुनाया. उन्होंने कहा कि जब मैंने एक छोटी सी बच्ची से पूछा कि बड़ी होकर तुम क्या बनोगी तो पहले तो उसने कुछ नहीं किया लेकिन बाद में उसने कहा कि जो वकील से बड़ा होता है। भारत बचाओ' रैली का मक

जयपुर सीट - भाजपा - कांग्रेस का गणित बिगाड़ सकते है बसपा प्रत्याशी - पूर्व IAS उमराव सालोदिया

BJP - Congress can spoil the math of BSP candidate - Former IAS Umrao Salodia त्रिकोणीय मुकाबलें में जयपुर सीट - बसपा प्रत्याशी के रूप में उमराव सालोदिया ने भरा नामांकन  जयपुर | लोकसभा चुनाव 2019 धीरे - धीरे अपनी चरम सीमा की और बढ़ रहा है लगभग अब सभी नेताओं ने अपनी - अपनी  सियासी बिसात बिछा चुके है जयपुर शहर सीट से भाजपा ने अपने पूर्व सांसद रामचरण बोहरा को फिर मैदान में उतारा है जिन के नाम पर पार्टी में पहले ही विरोध था लेकिन भाजपा ने एक बार फिर उन पर विश्वास जताया है  तो कांग्रेस ने पहली बार वैश्य प्रत्याशी ज्योति खंडेलवाल को मैदान में उतारा है जो की कांग्रेस के भितरघात की शिकार हो चुकी है वही तीसरे फ्रंट बसपा ने पूर्व IAS अधिकारी - उमराव सालोदिया को मैदान में उतारा है जमीनी हकीकत की बात करे तो अब मुकाबला त्रिकोणीय होता नज़र आ रहा है | कौन है उमराव सालोदिया - उमराव सालोदिया पूर्व सीनियर IAS ऑफिसर रह चुके है वह तब सुर्खियों में आये थे जब वसुंधरा राजे सरकार में उन्हें नियमों के विरुद्ध जा कर उनकी जगह अन्य को मुख्य सचिव बनाया था तब इस ईमानदार छवि के IAS ऑफिसर ने भार तीय प्रशासनिक सेवा से व

जयपुर ग्रामीण सीट - दो खिलाडियों को टक्कर देंगे - बसपा के वीरेंद्र सिंह विधूड़ी

Jaipur rural seat - will give a hit to two players - Virender Singh Vaidyudi of BSP जयपुर | लोकसभा चुनाव 2019 जहाँ भाजपा और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर है तो बसपा भी कही कम नज़र नहीं आ रही है जयपुर ग्रामीण से बसपा प्रत्याशी वीरेंद्र सिंह विधूड़ी ने आज अपना नामांकन भरा है मूलरूप से दिल्ली के रहने वाले वीरेंद्र सिंह काफी तेजतरार नेता के रूप में जाने जाते है वीरेंद्र गुर्जर समाज से है और गुर्जर आरक्षण आंदोलन में मुख्यभूमिका में रहे थे  जयपुर ग्रामीण में गुर्जर समाज अच्छी जनसंख्या में है इस बार बसपा पार्टी ने राजस्थान में कई बड़े चहरे मैदान में उतारे है जैसे - दबंग आई पी एस - पंकज चौधरी , जोधपुर से मुकुल पंकज चौधरी ,जयपुर शहर से पूर्व IAS अधिकारी उमराव सालोदिया आदी मुख्य चर्चित चेहरे इस बार मैदान में अपनी किस्मत आजमा है | यह दिग्गज है जयपुर ग्रामीण से मैदान में -  जयपुर ग्रामीण से वर्तमान सांसद राज्यवर्धन सिंह राठोड भाजपा से है तो कृष्णा पुनिया कांग्रेस से मैदान में है अब त्रिकोणीय मुकाबले में बसपा के विरेंद सिंह है | वीरेंद्र सिंह ने कहा -  वीरेंद्र सिंह ने मीडिया से कहा की आज देश में कुछ

प्रधानमंत्री मोदी पर हो मामला दर्ज - मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

Modi politics behind the valor and valor of soldiers- Chief Minister Gehlot [caption id="attachment_8562" align="alignright" width="291"] ashok -gehlot[/caption] जयपुर | मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज मोदी और भाजपा सरकार पर जमकर आरोप लगायें , गहलोत ने कहा की मोदी सैनिकों के शौर्य और पराक्रम के पीछे मोदी राजनीति करते हैं व योगी जी भारतीय सेना को मोदी सेना बताते हैं उनके खिलाफ मामला दर्ज होना चाहिए कांग्रेस ने पिछले 70 वर्षों में कभी भारतीय सेना और राजनीति के परस्पर संबंध को नही जोड़ा है। यह उद्बोधन राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भीलवाड़ा जिले के सहाड़ा विधानसभा के कारोही में आयोजित लोकसभा के कांग्रेस प्रत्याशी रामपाल शर्मा के समर्थन में आयोजित सभा में कहे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि अब समय आया है कड़ी से कड़ी जोड़ने का साथ ही राजस्थान सरकार को मजबूती प्रदान करने के लिए भीलवाड़ा लोकसभा से कांग्रेसी प्रत्याशी को जीताना है।  गहलोत ने कहा विधानसभा चुनाव से पूर्व कांग्रेस के घोषणा पत्र के आधार पर किए गए वादे मै से कांग्रेस ने किसानों के कर्ज माफ किए है

लोस - 2019 के पहले चरण में 69 .43% मतदान ,जानें कहा कितना हुवा मतदान ख़ास रिपोर्ट

In the first phase of Lok Sabha elections, in the first phase, 69.43% voting has been recorded so far नई दिल्ली |अब तक के उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, 11 अप्रैल 2019 को लोकसभा चुनाव 2019 के प्रथम चरण के मतदान में अठारह राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों में 69.43% मतदान दर्ज किया गया है। इस प्रतिशत के अभी और बढ़ने की संभावना है क्योंकि संकलन के समय, दूरस्थ स्थानों के कुछ शेष मतदान दलों के आंकड़ों को अभी तक समेकित नहीं किया  गया है। गौरतलब है कि पहले चरण के मतदान में, देश के 91 संसदीय क्षेत्रों के लिए आंध्र प्रदेश (25/25 संसदीय क्षेत्र), अरुणाचल प्रदेश (2/2 संसदीय क्षेत्र), असम (5/14 संसदीय क्षेत्र), बिहार (4/40 संसदीय क्षेत्र), छत्तीसगढ़ (1/11 संसदीय क्षेत्र), जम्मू और कश्मीर (2/6 संसदीय क्षेत्र), महाराष्ट्र (7/48 संसदीय क्षेत्र), मणिपुर (1/2 संसदीय क्षेत्र), मेघालय (2/2संसदीय क्षेत्र), मिजोरम (1/1 संसदीय क्षेत्र), नागालैंड (1/1) संसदीय क्षेत्र), ओडिशा (4/21 संसदीय क्षेत्र), सिक्किम (1/1 संसदीय क्षेत्र), तेलंगाना (17/17 संसदीय क्षेत्र), त्रिपुरा (1/2 संसदीय क्षेत्र) उत्तर प्रदेश (8/80 स

हुकूम" आपको नाम बदलने के लिए नहीं सबका साथ सबका विकास करने के लिए सत्ता सौंपी थी - आम मतदाता का दर्द

"हुकूम" आपको नाम बदलने के लिए नहीं सबका साथ सबका विकास करने के लिए सत्ता सौंपी थी ! ---------------------------------------------------------- लेकिन जिन्होंने 60 साल पहले के नेहरू को ईमानदारी से नहीं पढा, वो सवा चार सौ साल पहले के अकबर ए आज़म को क्या पढेंगे " ---------------------------------------------------------- इलाहाबाद और मुग़ल सराय का नाम ही क्यों पूरी डिक्शनरी ही बदल दीजिए - ************** 2014 में सबका साथ सबका विकास और अच्छे दिनों के आने का वादा कर केन्द्र की सत्ता में आई भाजपा ने एक के बाद करीब डेढ़ दर्जन राज्यों में भी फ़तह का परचम फहराया। कुछ राज्यों में पहले से भाजपा की सरकारें थीं। केन्द्र में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में 30 साल बाद पूर्ण बहुमत की सरकार बनी। लोगों को अच्छे दिन आने की उम्मीद थी ! सबके विकास की उम्मीद थी ! सबके साथ की उम्मीद थी ! रोटी और रोजगार की उम्मीद थी ! भ्रष्टाचार खत्म होने की उम्मीद थी ! कालाधन वापस आने की उम्मीद थी ! लेकिन यह सब उम्मीद ही रही और अब तो जनता इन उम्मीदों का इन्तजार भी नहीं कर रही है, क्योंकि उसका हाकिमों के वादों से भर

कांग्रेस - जयपुर फतह करने के लिए महेश जोशी है अहम् किरदार में -

मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री बनवाने तक की रणनीति......... किशनपोल और हवा महल सीटों से चुनाव लङवाने की तैयारी गहलोत ने जयपुर फतह करने के लिए महेश जोशी और अश्क अली टाक को सम्भलाया मोर्चा - सूत्र  ----------------------------------------------------------- जयपुर। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता महेश जोशी और अश्क अली टाक को पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का खासमखास समझा जाता है। महेश जोशी जयपुर शहर लोकसभा सीट से सांसद और यहाँ की किशनपोल विधानसभा सीट से विधायक रहे हैं। अश्क अली टाक फतेहपुर से विधायक, राज्य सरकार में मन्त्री और राज्यसभा सांसद रहे हैं। दोनों ने ही छात्र राजनीति से अपना कदम सियास [caption id="attachment_8562" align="alignright" width="400"] ashok -gehlot[/caption] त की दहलीज पर रखा था। दोनों कांग्रेस के मंजे हुए नेता हैं। अश्क अली टाक फतेहपुर विधानसभा क्षेत्र से दावेदार हैं और 2008 का चुनाव वे किशनपोल से लङ चुके हैं। सियासी गलियारों की उच्च चौपालों पर चर्चा है कि गहलोत ने जयपुर को फतह करने के लिए अपने इन विश्वसनीय महारथियों को मैदान में उतार दिया है। कांग

जाटों को कुछ सीटें त्याग कर सियासी मैदान में बङा दिल दिखाना होगा - जाने ख़ास

जाट ...........सियासत ...... एक नज़र - जाटों को राजस्थान की करीब एक चौथाई विधानसभा सीटों पर उम्मीदवारी का दावा करने की बजाए अपनी जीती हुई कुछ सीटों का भी त्याग करना चाहिए, ताकि सियासी सन्तुलन स्थापित हो सके और अन्य जातियों की जाटों के प्रति नाराजगी भी कम हो सके। ------------------------------------------------------------ इन सीटों में मण्डावा, झुन्झुनूं, गुढा उदयपुरवाटी, फतेहपुर, लाडनूं , नागौर, भादरा, चूरू, मकराना, आमेर, फलौदी आदि दो दर्जन सीटें प्रमुख हैं, जहाँ से या तो वर्तमान में जाट विधायक हैं या फिर कुछ मजबूत जाट नेता प्रमुख पार्टियों से दावेदार बने हुए हैं। ------------------------------------------------------------ जाट कौम के बुद्धिजीवियों और राजनेताओं को इन जाट दावेदारों को समझाना चाहिए कि आप इन सीटों से दावेदारी छोङ कर दूसरी कौमों के दावेदारों का समर्थन करें तथा उन्हें टिकट दिलवाने व चुनाव जीताने में सहयोग भी करें। जयपुर | जाट कौम राजस्थान का एक प्रमुख समुदाय है, जो आजादी से पहले तक सामन्तों के हाथों जबरदस्त शोषण व प्रताड़ना का शिकार हुई थी। जाटों का मुख्य पेशा खेती किसानी था,

बट चुके है टिकट : भाजपा-कांग्रेस में और आप इन्तजार में ...............

राजस्थान विधानसभा चुनाव -   चुनावी मैदान में सर्द गर्मी तेज -  जयपुर | भाजपा -कांग्रेस पार्टी ने अपने प्रत्याशीयों को चुनावी मैदान में उतार चुके है सूत्रों के अनुसार भाजपा आलाकमान ने जिन प्रत्याशियों का टिकट फ़ाइनल कर दिया है उन्हें इशारा कर दिया गया है की अपने क्षेत्र में जनसंपर्क करना शुरू करे सूत्रों की माने तो पहले भाजपा ने अपने कुछ प्रत्याशियों को क्षेत्र में जाने का इशारा किया तो उसके बाद कांग्रेस ने भी अपने पहली लिस्ट के प्रत्याशियो को मैदान में भेज चुकी है | क्यों नहीं आ रही - अभी तक फ़ाइनल लिस्ट - जाने  जहाँ कांग्रेस - भाजपा ने अपने प्रत्याशीयों को क्षेत्र में सक्रिय कर दिया है लेकिन आला -कमान भी यह देखना चा रही है की जिन प्रत्याशीयों को मैदान में उतारा है उन्हें जनता केसा रेस्पोंस दे रही है आखिर जनता का क्या मन है अगर कुछ जगह कुछ विवाद होता है तो अन्तिम अवसर तक पार्टिया प्रत्याशी बदल सकती है | क्यों सोशल मीडिया में आ रही फर्जी लिस्ट -  आप देख रहे होगे की कुछ प्रत्याशीयों की लिस्ट सोशल मीडिया में चल रही है आखिर क्यों और केसे - जो लिस्ट सोशल मीडिया में चल रही है उनमे 2 -3 लिस्टो

बगरू विधानसभा क्षेत्र को मिली नई सौगात -

सच होता विकसित बगरू का संकल्प "मुख्यमंत्री आदर्श ग्राम पंचायत आशावाला" जयपुर | बगरू युवा विधायक कैलाश वर्मा ने मुख्यमंत्री आदर्श ग्राम पंचायत आशावाला में करोड़ों रुपए की लागत से नवीन पंचायत भवन निर्माण, स्वच्छ जल केन्द्र,सडक निर्माण, DFU, सी सी सडकों सहित विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। इस दौरान भाजपा बग़रू देहात मंडल महामंत्री गिर्राज मीणा ने केंद्र व राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं की जानकारी ग्रामवासियों को दी साथ ही आगामी चुनाव में भाजपा को जिताने का आह्वान किया ।कार्यक्रम में आशावाला पंचायत के सरपंच कैलाश खोडा, एस टी मोर्चा अध्यक्ष रामलाल बैन्दाडा, मुहाना सरपंच सुनिल कुमावत, बडी का बास पंचायत के सरपंच झुथा राम बलाई, जगन्नाथपुरा पंचायत के सरपंच पोखर मल, जिला परिषद के प्रतिनिधि कैलाश जी कूल्या, शंकर बाड़गर, युवामोर्चा के अध्यक्ष ब्रह्मप्रकाश शर्मा, कोषाध्यक्ष श्योनारायण यादव मण्डल के उपाध्यक्ष शंकर जी बागडा, शक्ति प्रमुख श्री राम की नांगल कालूराम बैन्दाडा, बूथ अध्यक्ष राजेंद्र बैन्दाडा, जगदीश बैन्दाडा, नानगराम ब्याडवाल, ओबीसी मोर्चा अध्यक्ष हीरालाल यादव

राजस्थान: BJP के तीनों राज्यसभा प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित घोषित

जयपुर। राजस्थान राज्यसभा के लिये हुये चुनावों में भारतीय जनता पार्टी के तीनों उम्मीदवारों को आज निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया गया। निर्वाचन अधिकारी अखिल अरोडा ने सर्वश्री भुपेन्द्र यादव , मदन लाल सैनी और किरोडी लाल मीणा (तीनो भाजपा) को निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया।इन चुनावों के लिये आज नाम वापसी तक किसी भी उम्मीदवार द्वारा नामांकन वापस नहीं लेने और अन्य किसी भी उम्मीदवार के मैदान में नहीं होने के कारण तीनों को निर्वाचित घोषित किया गया। अरोडा ने निर्वाचित सांसदों किरोडी लाल मीणा और मदन लाल सैनी को जीत का प्रमाणपत्र दिया। पार्टी के तीसरे प्रत्याशी भुपेन्द्र यादव इस दौरान मौजूद नही थे। राजस्थान से भाजपा के तीनों उम्मीदवारों के निर्वाचन से अब राजस्थान की सभी दस सीटों पर भाजपा का कब्जा हो गया है।राज्यसभा की इन तीनों सीटों के लिए भाजपा के इन उम्मीदवारों के अलावा अन्य किसी प्रत्याशी ने अपना नामांकन पत्र दाखिल नहीं करने से इनकी जीत पहले से ही सुनिश्चित मानी जा रही थी। गौरतलब है कि यह निर्वाचन कांग्रेस के अभिषेक मनु भसधवी और नरेन्द्र बुढानिया तथा भाजपा के भूपेन्द्र यादव का छह साल का कार्यका

किरोड़ी के बाद अब इस दिग्गज नेता को मनाने का काम करेंगी BJP

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी ने कहा कि पार्टी से रूठे लोगों को मनाकर वापस पार्टी से जोडा जायगा। परनामी ने आज पार्टी कार्यालय में मंत्री समूह की बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुये कहा कि किरोडी लाल मीणा के बाद हनुमान बेनीवाल सहित अन्य लोगों को भी मनाकर वापस पार्टी से जोडा जायगा। उन्होंने कहा कि किसी कारणवश कोई कार्यकर्ता नाराज होकर अलग हुआ है तो उसे फिर से जोडऩे का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि आगामी विधानसभा चुनावों के मददेनजर हुयी इस बैठक में पार्टी के मिशन 180 प्लस पर चर्चा की गयी। इस बैठक में प्रदेश की राजनीतिक गतिविधियों और संगठन को और अधिक सक्रिय करने पर चर्चा की गयी।उन्होंने कांग्रेस के हाईटेक होने और शक्ति ऑपरेशन पर पूछे गये सवाल पर कहा कि कांग्रेस देश में अपने पहचान के अस्तित्व के संकट से जूझ रही है और वह अब चार राज्यों तक ही सीमट कर रह गयी है। मीणा की घर वापसी के बाद मंत्रीमंडल में फेरबदल के संबंध में पूछे गये सवाल को टालते हुये उन्होनें कहा कि यह मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार है और वह जब चाहेंगी जरूरत पर फेरबदल कर सकती है। उन्होंने द

वसुन्धरा राजे ने विधायकों के लिए इसे बताया सबसे अच्छी पाठशाला

जयपुर। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि विधायकों के लिए विधानसभा ही सबसे अच्छी पाठशाला है जहां हम विधायी कार्यों से लेकर सभी तरह के नियम और प्रक्रियाओं को सीखते हैं। उन्होंने कहा कि जनता एक विधायक को अपने प्रतिनिधि के रूप में चुनकर भेजती है, ऐसे में विधायकों को जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरना चाहिए। राजे ने मंगलवार को विधानसभा में सर्वश्रेष्ठ विधायक सम्मान समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि जिस प्रकार इन विधायकों ने संसदीय परम्पराओं का निर्वहन किया है, वह सभी के लिए प्रेरणादाई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सत्ता पक्ष और प्रतिपक्ष सदन में लोकतंत्र के दो पहिए होते हैं। इसलिए सत्ता पक्ष और प्रतिपक्ष के साथी विधायकों के साथ हमारा व्यवहार समान रूप से सरल और मृदु होना चाहिए। उन्होंने कहा कि पक्ष-प्रतिपक्ष की भावना से ऊपर उठकर ही सदन के विभिन्न सदस्यों को सर्वश्रेष्ठ विधायक के रूप में चयन किया गया है। समारोह में शांतिलाल चपलोत को वर्ष 2003-04 के लिए, भरत सिंह को 2007, राजेन्द्र राठौड़ को 2009, गुलाबचंद कटारिया को 2010, अमराराम को 2011, सूर्यकंाता व्यास को 2012, राव राजेन्द्र सिंह क

पायलट ने उपचुनाव की खुशियां होली के रंग में मनाई

जयपुर। राजस्थान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने आज कार्यकर्ताओं के साथ होली खेल कर हाल ही में हुए उप चुनाव में पार्टी की जीत पर खुशियां मनाई। बनीपार्क युवक कांग्रेस कार्यालय में आयोजित होली मिलन समारोह में प्रदेश भर के कांग्रेस कार्यकर्ता आये तथा पायलट के गुलाल लगाई। प्रदेश अघ्यक्ष ने भी कार्यकर्ताओं को गुलाल लगाकर होली की शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर अजमेर के सांसद रघुशर्मा भी समारोह मे शामिल हुए जिन्हें लोगों ने उपचुनाव में जीत की शुभकामनाएं दी। काफी संख्या में महिला कार्यकर्ताओं ने भी होली मिलन समारोह में शामिल होकर खुशी का इजहार किया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रताप सिंह खचरियावास ने होली मिलन की शुभकामनाएं देते हए कहा कि उप चुनाव में सफलता की खुशियां समारोह में साफ नजर आ रही है। उनहोंने आशा व्यक्त की कि इस बार चुनाव में कांग्रेस को भारी बहुमत मिलेगा।

विपक्ष का काम केवल नकारात्मक बातें करना सही नहीं है: परनामी

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी ने आज कहा है कि विपक्ष का काम केवल नकारात्मक बातें करना सही नहीं है। परनामी ने संवाददाताओं से कहा कि विपक्ष को प्रदेश का विकास नजर नहीं आ रहा है। केवल नकारात्मक बातें कर रहे हैं, जो ठीक नहीं है। उन्होंने ब्यावर में रसोई गैस सिलेंडर हादसे की चर्चा करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने ब्यावर पहुंचकर प्रभावित परिवारों से मिली और बचाव कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए।   उन्होंने कहा कि विपक्ष ने प्रभावित परिवारों की सुध भी नहीं ली। सचिन पायलट और अशोक गहलोत को भी जाने का वक्त नहीं मिला। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने एक प्रश्न के जवाब में कहा कि पंजाब नेशनल बैंक घोटाले में किसी को बख्शा नहीं जाएगा। कांग्रेस को आरोप लगाने से पहले यह भी बताना चाहिए था कि यह ऋण किसके शासनकाल में दिया गया था। उन्होंने शिक्षकों के तबादले को लेकर शिक्षा राज्य मंत्री की ओर से निकाले गए एक परिपत्र के जवाब में कहा कि शिक्षकों के तबादले तय नीति के तहत ही होंगे।