Skip to main content

Posts

Showing posts with the label #purvanchal sena

सफाई कर्मियों का शोषण अब बरदाश्त नहीं : धीरेन्द्र प्रताप

" पूर्वांचल सेना का “सफाई कर्मचारी अधिकार आंदोलन” शुरू     मांगे पूरी करने के अल्टीमेटम के साथ 3 दिन का कार्य बहिष्कार " 1 अगस्त 2018 , पूर्वांचल सेना द्वारा “सफाई कर्मचारी अधिकार आंदोलन” का आगाज किया गया I आज नगर निगम गोरखपुर परिसर में हजारो की संख्या में जुटे ठेका सफाईकर्मि व् पूर्वांचल सैनिको ने, नगर निगम द्वारा ठेका सफाई कर्मचारियों का पंजीकरण,  नगर निगम सफाई कर्मचारियों का सरकार द्वारा निर्धारित वेतन किसी बिचौलियों के माध्यम से ना करसीधे सफाई कर्मियों के बैंक अकाउंट में भेजने,सफाई कर्मियों को सफाई के दौरान प्रयोग होने वाले सुरक्षा स्वास्थ्य, उपकरणों को पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराने, सफाई कर्मचारियों के स्वास्थ्य की नियमित जांच की व्यवस्था और सफाई कर्मचारियों के लिए नगर निगम में समस्या समाधान, सूचना हेतु स्थल आवंटित कराये जाने की मांगों के अल्टीमेटम के साथ ती न दिन का कार्य बहिष्कार किया गया I पूर्वांचल सेना के आह्वान पर जुटे ठेका सफाईकर्मियों ने “सफाईकर्मियों को पंजीकृत करो”, “सफाईकर्मियों का वेतन सीधे अकाउंट में भेजो”, “ठेकेदारी ख़तम करो”, “सफाईकर्मियों का शोषण बंद क

बिहार सरकार के खिलाफ देशव्यापी विरोध -प्रदर्शन - पूर्वांचल सेना द्वारा

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के बालिका संरक्षण गृह में मासूम बालिकाओ  के साथ हुए दुराचार, बर्बरता के मामले में बिहार सरकार द्वारा की जा रही लापरवाही, एवं घटना में शामिल अपराधियों के खिलाफ ठोस कार्यवाही ना करते हुए मामले की लीपापोती में जुटे बिहार सरकार के खिलाफ देशव्यापी विरोध -प्रदर्शन के क्रम में गोरखपुर में भी पूर्वांचल सेना, पूर्वांचल नियुध्द अकादमी, दिशा छात्र संगठन, लालदेव ताइक्वांडो अकादमी, मेरा रंग, स्त्री मुक्ति लीग, मूलनिवासी मजदूर संघ आदि संगठनों ने नगर निगम स्तिथित रानी लक्ष्मीबाई पार्क में धरना देकर विरोध-प्रदर्शन करते हुए नीतीश सरकार से इस्तीफे की मांग की । मुजफ्फरपुर में बच्चों के साथ हुए बर्बरता का आक्रोश इतना ज्यादा था की भारी बारिश के दौरान भी प्रदर्शनकारी पार्क में डटे रहें और बिहार सरकारऔर रेपिस्टों के खिलाफ नारेबाजी करते रहे ।   सुबह 10:00 बजे से शुरू हुए इस विरोध प्रदर्शन के बाद उपस्थित लोगो ने दोपहर 1.00 बजे से नार निगम से पदयात्रा निकालकर जिला अधिकारी पहुंचे जहां उन्होंने, जिलाधिकारी के माध्यम से बिहार सरकार को ज्ञापन भेजकर, मुजफ्फरपुर के बालिका संरक्षण गृह में रह र