Skip to main content

Posts

Showing posts with the label # top 10 news

सर्जिकल स्ट्राइक "पराक्रम पर्व" 51 शहरों में भाजपा की तैयार पूरी -

"पराक्रम पर्व" जोधपुर | भारतीय आर्मी द्वारा पाकिस्तान में आतंकवादी कैंपो पर भारतीय सैनिकों द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक के 2 साले पुरे होने के अवसर पर देश की प्रधानमंत्री मोदी आज जोधपुर पहुंचे , प्रधानमंत्री मोदी ने कहा की भारतीय सैनिको द्वा रा जो पराक्रम दिखाया और सीमा पार स्थिति आतंकी केंपो को ध्वस किया उन जवानों के पराक्रम को याद कर गर्व का अनुभव कर हूँ आज पुरे देश को उन जवानों पर गर्व है ,इसके बाद मोदी ने कोणार्क युद्ध स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की | इसके साथ हीआज का दिन  पराक्रम पर्व दिवस  के रूप में बनाया जायेगा, मोदी  ने जोधपुर मिलिटरी स्टेशन पर सेना के 'पराक्रम पर्व' प्रदर्शनी का उद्घाटन किया. पीएम ने सेना की रक्षा तैयारियों और साजोसामान पर आधारित प्रदर्शनी देखी. इस दौरान सेना के बैंड ने 'कदम कदम बढ़ाए जा' धुन बजाई। प्रदर्शनी के दौरान लगातार भारतीय जवानों के पराक्रम की वीर गाथा सुनाई गई। ख़ास नज़र - गौरतलब है की सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ को अब पराक्रम पर्व के रूप में बनाया जायेगा .यह आगामी राजस्थान विधानसभा चुनाव व् आगामी लोकसभा 201

मुख्यमंत्री राजे ने दी - चुनाव से पूर्व पुलिसकर्मियों को बड़ी सौगात

पहली बार 6000 कांस्टेबल पदोन्नत पुलिसकर्मियों का बीमा 10 गुना बढ़ाया - जयपुर, 19 सितम्बर। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने 6 हजार कांस्टेबलों की पदोन्नति के अवसर पर प्रदेश के सभी पुलिसकर्मियों को एक बड़ी सौगात देते हुए कांस्टेबल से लेकर पुलिस महानिदेशक स्तर तक के लिए दोहरी बीमा योजना राशि में 10 गुना बढ़ोतरी की घोषणा की है। राज्य पुलिसकर्मियों की इस बीमा योजना में यह बढ़ोतरी 27 साल बाद की गई है। श्रीमती राजे ने राजस्थान पुलिस अकादमी में बुधवार को राज्यस्तरीय पुलिस पदोन्नति समारोह में उपस्थित हजारों नव पदोन्नत हैड कांस्टेबल्स तथा अन्य पुलिसकर्मियों के बीच यह घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब कांस्टेबल से हैड कांस्टेबल तक 20 लाख रुपये, एएसआई से पुलिस निरीक्षक तक 40 लाख तथा उप अधीक्षक से पुलिस महानिदेशक तक 60 लाख रुपये का दोहरा  बीमा किया जाएगा। श्रीमती राजे ने कहा कि पहले कई कांस्टेबल अपने पूरे सेवाकाल में बिना पदोन्नत हुए सेवानिवृत्त हो जाते थे। हमारी सरकार ने उनकी इस पीड़ा को पूरी शिद्दत से महसूस किया और उनके हक में संवेदनशील निर्णय लेते हुए फैसला लिया कि 18 साल या उससे अधिक सेवा पूरी