Skip to main content

कोविड 19 : रात्रिकालीन कर्फ्यू अब शाम 6 बजे से प्रातः 5 बजे तक , शिक्षण संस्थाओंं, धार्मिक-सामाजिक आयोजनों, जुलूस, मेलों आदि पर 16 अप्रेल से रोक

गृह विभाग ने जारी किए नए दिशा-निर्देश-  प्रदेश में रात्रिकालीन कफ्र्यू अब शाम 6 बजे से प्रातः 5 बजे तक   शिक्षण संस्थाओंं, धार्मिक-सामाजिक आयोजनों, जुलूस, मेलों आदि पर 16 अप्रेल से रोक जयपुर, 14 अप्रेल। राज्य सरकार ने प्रदेश में कोविड-19 महामारी के संक्रमण की दूसरी लहर के प्रसार की श्रृंखला को तोड़ने के उद्देश्य से विभिन्न बाजार, कार्यस्थल,
http://dlvr.it/RxhyYv

Comments

Popular posts from this blog

इस कारण जयपुर में तेजी से बढ़ रहा कोरोना मरीजों का आंकड़ा

पिछले कुछ दिनों राजस्थान की राजधानी जयपुर में कोरोना विस्फोट होता नजर आ रहा है और हर दिन रेकॉर्ड तोड़ मरीज सामने आ रहे हैं। पीछले 8 महीनों की बात करें तो नवम्बर महीने में कोरोना मरीजों का ग्राफ सबसे तेज गति से बड़ा है और इसके कई कारण सामने आ रहे हैं। इसके चलते राज्य सरकार ने फिर से http://dlvr.it/RmlnBn

जय भीम बोलने पर होगी कार्यवाही,उज्जैन एसपी मनोज कुमार सिंह , विवाद शुरू

 " जय भीम " शब्द मध्यप्रदेश में ला सकता है बड़ा राजनेतिक फेरबदल हरीश कुमार खोलिया नई दिल्ली | संविधान निर्माता डॉ बाबा साहब को सम्मान देने हेतु - युवा वर्ग में एक शब्द बड़ा प्रचलित है वह है - जय भीम  लेकिन वर्तमान समय में यह शब्द उज्जैन मध्य प्रदेश में सुर्ख़ियों में है इस घिरते नज़र आ रहें है एसपी मनोज सिंह यह पूरा मामला वायरलेस सेट पर जय हिंद या जय महाकाल के बदले पुलिस कर्मियों द्वारा जय भीम बोलने पर शुरू हुआ ।यह बात पुलिस विभाग और एसपी मनोज कुमार सिंह को सहन नही हुई . देखते ही देखते " जय भीम " के नारे ने पुलिस महकमे और राज्य की राजनेतिक गलियारों में तहलका मचा दिया | जब इस मामले की जानकारी एसपी मनोज कुमार सिंह तक पहुंची तो उन्होंने वायरलेस सेट पर मैसेज दिया की जो भी पुलिसकर्मी जातिगत विवाद या राजनीति के शिकार होकर जय भीम बोल रहे है वह  गलत है और ऐसे पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी व निलंबित भी करने की धमकी दी गई। बुद्धिजीवी वर्ग - जय भीम क्यों बोलते हैं  जय भीम बोलना भारत देश के संविधान और संविधान निर्माता के प्रति सम्मान का सूचक है।जय भीम किसी राजनैतिक पा

राजस्थान के विकास का बजट - जाने क्या है ख़ास आपके लियें -

जयपुर | राजस्थान सरकार ने आज मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा राजस्थान के विकास के लियें अपना पथ निर्धारित कर दिया  , बजट की विशेषताओं में ख़ास बात है हर क्षे त्र के विकास के लक्ष्य बिंदुओं का समावेश इस बजट में रखा गया है | बजट के मुख्य अंश / प्रमुख बिंदु  परिवर्तित बजट वर्ष 2019-20 के प्रमुख बिन्दु राजकोषीय संकेतक 2019-20 के परिवर्तित बजट अनुमानों में 2 लाख 32 हजार 944 करोड़ 1 लाख का कुल व्यय अनुमानित -   *  वर्ष 2019-20 के परिवर्तित बजट अनुमानों में 1 लाख 64 हजार 4 करोड़ 64 लाख की राजस्व प्राप्तियां अनुमानित *  वर्ष 2019-20 के परिवर्तित बजट अनुमानों में 1 लाख 91 हजार 19 करोड़ 61 लाख का राजस्व व्यय * वर्ष 2019-20 के परिवर्तित बजट अनुमानों में राजस्व घाटा ृ27 हजार 14 करोड़ 97 लाख * वर्ष 2019-20 का राजकोषीय घाटा ृ32 हजार 678 करोड़ 34 लाख जो ळैक्च् का 3.19 प्रतिशत है * वर्ष 2019-20 के परिवर्तित बजट अनुमानों में कुल ऋण एवं अन्य दायित्व, राज्य के सकल घरेलू उत्पाद का 33.13 प्रतिशत अनुमानित कृषि पर विशेष ध्यान - इजी बिजनेस की तर्ज पर इजी दोइंग फारमिंग की ओर पहला बड़ा कदम उठाते हुए 1000 करोड़ के